1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Chhath Puja 2021: जानिए सांध्य अर्घ्य देने का महत्व और समय, सूर्य को अर्घ्य देकर  किया जाता है व्रत का पारण 

Chhath Puja 2021: जानिए सांध्य अर्घ्य देने का महत्व और समय, सूर्य को अर्घ्य देकर  किया जाता है व्रत का पारण 

लोक आस्था के महापर्व छठी माता की पूजा का भारत देश में बहुत महत्व है। 4 दिन चलने वाले इस पर्व में सूर्यदेव और छठी माता की पूजा होती है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Chhath Puja 2021: लोक आस्था के महापर्व छठी माता की पूजा का भारत देश में बहुत महत्व है। 4 दिन चलने वाले इस पर्व में सूर्यदेव और छठी माता की पूजा होती है। कार्तिक शुक्ल की षष्ठी के दिन ही छठ पूजा और पर्व रहता है। इस दिन संध्या अर्घ्य का महत्व है। खरना के भोजन को ग्रहण करने के बाद ही व्रती महिलाओं का 36 घंटे का निर्जला उपवास शुरू हो जाता है। षष्ठी के अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देकर सप्तमी के उदयमान सूर्य को अर्घ्य देकर ही व्रत का पारण किया जाता है। आईये जानते हैं सांध्य अर्घ्य की परंपरा के बारे में।

पढ़ें :- Chhath Puja 2021: नहाय खाए के साथ छठ पूजा की हुई शुरुआत, ये है पूजा की विधि

 

  • संध्या षष्ठी को अर्घ्य अर्थात संध्या के समय सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाता है और विधिवत पूजन किया जाता है।
  • इस समय सूर्य अपनी पत्नी प्रत्यूषा के साथ रहते हैं। इसीलिए प्रत्यूषा को अर्घ्य देने का लाभ मिलता है। कहते हैं कि शाम के समय सूर्य की आराधना से जीवन में संपन्नता आती है।
  • छठ पूजा की सामग्री में नए वस्त्र, बांस की दो बड़ी टोकरी या सूप, थाली, पत्ते लगे गन्ने, बांस या फिर पीतल के सूप, दूध, जल, गिलास, चावल, सिंदूर, दीपक, धूप, लोटा, पानी वाला नारियल, अदरक का हरा पौधा, नाशपाती, शकरकंदी, हल्दी, मूली, मीठा नींबू, शरीफा, केला, कुमकुम, चंदन, सुथनी, पान, सुपारी, शहद, अगरबत्ती, धूप बत्ती, कपूर, मिठाई, गुड़, चावल का आटा, गेहूं।
  •  अर्घ्य देने के लिए बांस की 3 बड़ी टोकरी या पीतल का सूप लें, जिसमें चावल, लाल सिंदूर, गन्ना, हल्दी, सुथनी, सब्जी, शकरकंदी, नाशपाती, शहद, पान, बड़ा नींबू, सुपारी, कैराव, कपूर, मिठाई, चंदन, ठेकुआ, मालपुआ, खीर, सूजी का हलवा, पूरी, चावल से बने लड्डू आदि सभी सजा लें। साथ में थाली, दूध और गिलास ले लें। सूर्य को अर्घ्य देते समय सारा प्रसाद टोकरी में रखें और एक दीपक भी जला लें। इसके बाद नदी में उतरकर सूर्यदेव को अर्घ्य दें। अर्घ्य देते समय इस मंत्र का उच्चारण करें।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...