1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. कानपुर में युवक के परिजन बोले- यूपी पुलिस ने पीट पीटकर मार डाला

कानपुर में युवक के परिजन बोले- यूपी पुलिस ने पीट पीटकर मार डाला

यूपी पुलिस (UP Police) का एक बार फिर क्रूर चेहरा कानपुर में सामने आया है। कासंगज की घटना (Incident of Kasangaj) और फिर गोरखपुर पुलिस (Gorakhpur Police) पिटाई के बाद व्यापारी की मौत के मामले के बाद अब कानपुर पुलिस (Kanpur Police) पर युवक की पीट-पीटकर हत्या करने का सनसनीखेज आरोप सामने आया है। आरोप के मुताबिक तीन दिन पूर्व पुलिस चोरी के आरोप में युवक को पुलिस ने चौकी बुलवाया था।

By संतोष सिंह 
Updated Date

कानपुर। यूपी पुलिस (UP Police) का एक बार फिर क्रूर चेहरा कानपुर में सामने आया है। कासंगज की घटना (Incident of Kasangaj) और फिर गोरखपुर पुलिस (Gorakhpur Police) पिटाई के बाद व्यापारी की मौत के मामले के बाद अब कानपुर पुलिस (Kanpur Police) पर युवक की पीट-पीटकर हत्या करने का सनसनीखेज आरोप सामने आया है। आरोप के मुताबिक तीन दिन पूर्व पुलिस चोरी के आरोप में युवक को पुलिस ने चौकी बुलवाया था। परिजनों का आरोप है कि पुलिस चोरी का झूठा आरोप लगाकर उसकी जमकर पिटाई की, जिसमें उसकी मौत हो गई। मंगलवार सुबह कुछ पुलिसवाले युवक को उसके ही घर के पास फेंककर चले गए। यह देख लोगों में पुलिस के खिलाफ आक्रोश व्याप्त हो गया है।

पढ़ें :- गर्लफ्रेंड के साथ होटल के कमरे में था इंस्पेक्टर, अचानक पहुंची पत्नी और फिर जानें क्या हुआ

बता दें कि कल्याणपुर पुलिस (Kalyanpur Police) दिवाली के अगले दिन हुई 12 लाख की चोरी के शक में दो दिन पहले युवक को पकड़ लाई थी। उसे कल सुबह छोड़ा, जिसके बाद रात में उसकी मौत हो गई। युवक की पीठ पर बुरी तरह पिटाई के निशान हैं। परिजनों ने पुलिस पर हत्या का आरोप लगाया है। परिजनों ने शव रखकर हंगामा किया और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने चोरी के एक मामले में पूछताछ के लिए मृतक को चौकी में बुलाया था। वहीं पर मृतक को पीटा गया, जिससे उसकी मौत हो गई। इस मामले में डीसीपी पश्चिम बीबीजीटीएस मूर्ति (Dcp West BBGTS Murti) ने बताया कि मामले की निष्पक्षता से जांच कराकर दोषियों के ऊपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

बता दें कि मृतक के घर के बगल में रहने वाले एक परिवार के यहां बीते 4 नवंबर को लाखों की चोरी हो गई थी, जिसके बाद पुलिस ने शक के आधार पर मृतक और मृतक के भाइयों की क्रिमिनल हिस्ट्री को देखते हुए 14 नवंबर को पूछताछ के लिए चौकी बुलाया था। पूछताछ करने के बाद से ही वापस छोड़ दिया था। अगले दिन उसकी की तबीयत बिगड़ी और अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में ही मौत हो गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और घटना की जांच में जुट गई है।

घरवालों का आरोप है कि शाम को बेसुध हालत में पुलिस उसे घर में फेंक गई। जितेंद्र की तबीयत खराब हुई तो घरवाले उसे अस्पताल ले गए। रास्ते में ही युवक की मौत हो गई। घरवालों ने उसके शरीर में चोट की निशान देखे तो वह भड़क गए।

पढ़ें :- कोरोना से जंग में विश्वपटल पर नाम दर्ज कराने जा रहा है कानपुर, दुनिया का होगा पहला ट्रायल

जितेंद्र जाने वाला था मुंबई

घरवालों ने बताया कि जितेंद्र मुंबई में मजदूरी का काम करता था। वह दिवाली की छुट्टियों पर घर आया था। वह मुंबई वापस जाने वाला था, उससे पहले पुलिस ने उसे उठा लिया। आरोप है कि रात को पनकी रोड चौकी में रखकर जितेंद्र की पिटाई की गई।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...