1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. महाराष्ट्र सरकार कोरोना वायरस की तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयार : उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र सरकार कोरोना वायरस की तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयार : उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को कहा कि बढ़ती भीड़ कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर को रोकने के लिए एक बड़ी चुनौती है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया कि वे धार्मिक, सामाजिक कारणों के साथ-साथ राजनीतिक घटनाओं और आंदोलन की भीड़ को रोकने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक व्यापक नीति बनाएं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Maharashtra Government Ready To Deal With Third Wave Of Corona Virus Uddhav Thackeray

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को कहा कि बढ़ती भीड़ कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर को रोकने के लिए एक बड़ी चुनौती है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया कि वे धार्मिक, सामाजिक कारणों के साथ-साथ राजनीतिक घटनाओं और आंदोलन की भीड़ को रोकने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक व्यापक नीति बनाएं।

पढ़ें :- महाराष्ट्र : Satara landslide 6 लोगों की मौत और आठ लापता, NDRF की टीम रेस्क्यू में जुटी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छह राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ शुक्रवार को ऑनलाइन बातचीत कर रहे थे। श्री ठाकरे ने बैठक में कोविड की दूसरी लहर से निपटने के लिए महाराष्ट्र द्वारा उठाए गये ठोस कदमों और तीसरी लहर से लड़ने के लिए योजनाओं की जानकारी दी।

श्री ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र में मरीजों की संख्या और मृत्यु दर में गिरावट आ रही है, लेकिन इसे और कम करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वह अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं के टीकाकरण में तेजी ला रहे हैं और टीकों की बर्बादी कम कर रहे हैं। उन्होंने कोरोना को लेकर समय-समय पर प्रदेश का मार्गदर्शन करने के लिए प्रधानमंत्री काे धन्यवाद देते हुए कहा कि दूसरी लहर अभी पूरी तरह समाप्त नहीं हुयी है। मरीजों की संख्या हालांकि घट रही है लेकिन पूरी तरह समाप्त नहीं हुई है।

इस दौरान उन्होंने पीएम मोदी को आश्वासन दिया कि महाराष्ट्र कोरोना वायरस की तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयार हैं। इसके साथ ही उद्योगों को बचाए रखने के लिए उपाय किए जा रहे हैं। श्री ठाकरे ने कहा कि कोविड की तीसरी लहर में राज्य को प्रतिदिन लगभग 4,000 टन ऑक्सीजन की आवश्यकता होगी और राज्य में 2,000 टन का उत्पादन किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि शेष 2,000 टन ऑक्सीजन यदि यह पड़ोस के राज्यों से उपलब्ध करा दिया जाय तो बहुत बड़ी मदद हो जायेगी।

पढ़ें :- Tokyo Olympic: भारत का खुला खाता, मीराबाई चानू ने वेटलिफ्टिंग में देश को दिलाया पहला पदक

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X