1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Medicine from the sky : ड्रोन से अरुणाचल के दूर-दराज के इलाकों में दवाएं पहुंचीं, मेडिसिन फ्रॉम द स्काई संचालन शुरू

Medicine from the sky : ड्रोन से अरुणाचल के दूर-दराज के इलाकों में दवाएं पहुंचीं, मेडिसिन फ्रॉम द स्काई संचालन शुरू

तकनीकी ने पर्वतीय और दूरदराज के क्षेत्रों में जीवन को आसान बना दिया है। मेघालय के बाद अब अरुणाचल प्रदेश में भी ड्रोन आधारित सेवाएं शुरू की गई हैं।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Medicine from the sky : तकनीकी ने पर्वतीय और दूरदराज के क्षेत्रों में जीवन को आसान बना दिया है। मेघालय के बाद अब अरुणाचल प्रदेश में भी ड्रोन आधारित सेवाएं शुरू की गई हैं। अब अरुणाचल प्रदेश में ड्रोन आधारित सेवाएं दूरस्थ, पर्वतीय और दूर-दराज के क्षेत्रों में दवाएं और अन्य आवश्यक स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाने के लिए सोमवार को शुरू की गईं। गुरुग्राम स्थित ‘टेकईगल’ ने ड्रोन-आधारित सेवाओं को विकसित किया है। इसे अरुणाचल प्रदेश सरकार और विश्व आर्थिक मंच के सहयोग से लॉन्च किया गया है। लोअर सुबनसिरी जिले के दूरदराज के क्षेत्रों के लिए ‘मेडिसिन फ्रॉम द स्काई’ को सक्षम करने के लिए संचालन शुरू कर दिया गया है।

पढ़ें :- यूपी देश के टॉप-4 राज्यों में शामिल, 75 लाख से अधिक नल कनेक्शन देने का आंकड़ा किया पार

इस प्रोजेक्ट को अरुणाचल प्रदेश के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री अलो लिबांग ने हरी झंडी दिखाई। अधिकारियों ने कहा कि ड्रोन ने जीरो वैली से उड़ान भरी और महज 21 मिनट में 31 किमी की हवाई दूरी तय कर कार्गो (मेडिसिन) को चंम्बग पहुंचाया।

ड्रोन ने 1.5 किलोग्राम के पेलोड के साथ जीरो वैली से उड़ान भरी, जिसमें डायक्लोफेनाक टैबलेट और एड्रेनालाईन इंजेक्शन थे। चंम्बग से अपनी वापसी की उड़ान पर ड्रोन ने टेस्ट के लिए ब्लड सैंपल भी लिए।रिपोर्ट के अनुसार, जीरो वैली से चंम्बग के बीच वाहन से रोड के द्वारा यात्रा करने पर करीब आठ घंटे का वक्त लगता है। लेकिन ड्रोन ने इस दूरी को केवल 21 मिनट में तय किया है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...