1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Meerut News : ई-बाइक ‘तेजस’ 7 घंटे की चार्जिंग में चलती है 150 किमी, 35 हजार लागत में है बनी

Meerut News : ई-बाइक ‘तेजस’ 7 घंटे की चार्जिंग में चलती है 150 किमी, 35 हजार लागत में है बनी

आज हम आपको मेरठ की सड़क पर फर्राटा भर रहे ऐसे तेजस ई-बाइक के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे दो छात्रों ने तैयार कर दिया है। जी हां हम बात कर रहे हैं ऐसी ई-बाइक की जिसे ‘तेजस’नाम दिया गया है ।

By संतोष सिंह 
Updated Date

मेरठ। मेरठ की सड़कों पर ‘तेजस’ दौड़ रहा है। यह कोई लड़ाकू विमान नहीं, बल्कि दो सगे भाइयों का इनोवेशन है।  आज हम आपको मेरठ की सड़क पर फर्राटा भर रहे ऐसे तेजस ई-बाइक के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे दो छात्रों ने तैयार कर दिया है। जी हां हम बात कर रहे हैं ऐसी ई-बाइक की जिसे ‘तेजस’नाम दिया गया है । यह बाइक 100 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से दौड़ सकती है।

पढ़ें :- बेसिक शिक्षा विभाग ने निपुण भारत मिशन प्रचार-प्रसार के लिये जारी किये  आवश्यक निर्देश 

ई-बाइक ‘तेजस’ को पेटेंट कराने का बना रहे हैं प्लान 

दोनों भाइयों ने अपने पिता धर्मपाल सिंह से बुलेट दिलाने को कहा था। मगर, पैसे न होने पर उन्होंने इनकार कर दिया। इससे नाराज होकर दोनों भाइयों ने 35 हजार रुपए खर्च कर बैटरी से चलने वाली बाइक बना डाली। अब जब दोनों भाई बाइक लेकर सड़कों पर निकलते हैं, तो हर किसी नजर इन पर ही रहती है। इसे कोई रॉकेट, तो कोई मिसाइल बाइक कहता है। शेप भी इससे मिलता-जुलता ही है। दोनों भाइयों का दावा है कि इस बाइक को 5 रुपए की बिजली खपत से 150 किलोमीटर तक चलाया जा सकता है। दोनों अब इसे पेटेंट कराने का प्लान बना रहे हैं।

इस ‘तेजस’ को आप पहली नज़र में देखेंगे तो लगेगा ये बच्चों की साइकिल है। छोटे-छोटे पहिए। सीट की जगह पाइप का इस्तेमाल किया गया है। इसका हैंडल साइकिल की तरह है। बीचों बीच मिरर, शॉकर और चार्जिंग बैटरी आदि को जोड़कर मेरठ के आशीष और अंकित ने ई-बाइक तैयार कर दी है। आशीष और अंकित बताते हैं कि इस ई-बाइक का एवरेज भी एक बार चार्ज होने पर डेढ़ सौ किलोमीटर का है।

आशीष जब इस ई-बाइक को लेकर मेरठ के कमिश्नरी चौराहे पर आए तो सेल्फी और फोटो खींचने वालों की कतार लग गई। बिल्कुल अलग सी दिखने वाली इस ई-बाइक को देखकर लोग हैरान रह गए हैं। आशीष ने बताया कि उन्होंने अपनी इस खोज का नाम तेजस दिया है, लेकिन लोग उनकी बाइक को रॉकेट और मिसाइल भी बोलते हैं। बाइक की स्पीड 60-65 किलोमीटर की है। इसे अलग-अलग पुर्ज़ों से मिलाकर बनाने में पैंतीस हज़ार का खर्च आया है।

पढ़ें :- उप्र माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद की पूर्व मध्यमा से उत्तर मध्यमा स्तर तक की परीक्षाओं का कैलेण्डर जारी

बुलेट नहीं मिली तो बना डाली खुद की बाइक

16 साल के अक्षय और 21 साल के आशीष ने अनोखी ई-बाइक बना डाली है। दोनों सगे भाइयों ने बताया कि उन्होंने अपने पिता से बुलेट दिलाने की मांग की थी, तो उनके पिता ने मना कर दिया। कुछ दिनों बाद इऩ दोनों सगे भाईयों ने अपनी ही बैटरी वाली बाइक बना डाली। अक्षय पॉलिटेक्निक के छात्र हैं और आशीष एम.ए की पढ़ाई कर रहे हैं। आशीष बताते हैं कि सारा टेक्निकल काम उनके छोटे भाई अक्षय ने देखा है। वहीं आशीष ने मोटरसाइकिल बनाने के लिए अलग-अलग जगह से मोटरसाइकिल के पार्ट्स को इकट्ठा किया। इस बाइक में इतने फीचर्स है कि शायद ही सामान्य बाइक में हों।

ये फीचर्स हैं मौजूद

बाइक के फीचर्स की बात करें तो मात्र 7 घंटे में इसकी बैटरी चार्ज हो जाती है। 7 घंटे की चार्जिंग के बाद यह बाइक 150 किलोमीटर तक सफर तय कर सकती है। इतना ही नहीं इस बाइक में बैक गियर भी लगता है। पीवीसी का पाइप इस बाइक पर लगाया गया है, और ये बाइक 3 लोगों का वजन उठा सकती है। बाइक में 24 एंपियर और 60 किलोवाट वोल्टेज की बैटरी लगाई गई है।

बाइक में स्पीड कम ज्यादा करने के लिए भी एक बटन दिया गया है, जिससे बाइक की स्पीड कम ज्यादा हो सकती है। आशीष बताते हैं कि अगर डिमांड आएगी तो हम इस मोटरसाइकिल को और बेहतर बना सकते हैं। इसमें जो सामान का इस्तेमाल किया गया है वो और बेहतर लगाया जा सकता है।बेहतर टायरों का इस्तेमाल किया जा सकता है। ई-बाइक तेजस आजकल मेरठ में चर्चा का विषय बनी हुई है। इसका वीडियो भी वायरल हो रहा है।

पढ़ें :- राहुल गांधी ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा गारंटी के लिए की ये मांग

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...