1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Rakesh Tikait के नारे के सहारे यूपी में चुनावी वैतरणी पार करने की जुगत में माया, विरोधियों पर किया बड़ा वार

Rakesh Tikait के नारे के सहारे यूपी में चुनावी वैतरणी पार करने की जुगत में माया, विरोधियों पर किया बड़ा वार

Muzaffarnagar Kisan Mahapanchayat : बीते रविवार को मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar )  के जीआईसी मैदान में हुई ऐतिहासिक किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union )के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत (National spokesperson Rakesh Tikait )ने एक नारा मंच से लगवाया था। राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) का ये नारा जहां सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है। तो वहीं दूसरी तरफ बहुजन समाज पार्टी (Bahujan samaj party ) की प्रमुख मायावती (Mayawati) ने टिकैत के भाईचारे वाले नारे (आल्लाहु अकबर और हर-हर महादेव) (Allahu Akbar and Har Har Mahadev) का समर्थन करते हुए उसको अपना हथियार बनाने का प्रयास किया है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। Muzaffarnagar Kisan Mahapanchayat : बीते रविवार को मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar )  के जीआईसी मैदान में हुई ऐतिहासिक किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union ) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत (National spokesperson Rakesh Tikait ) ने एक नारा मंच से लगवाया था। राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) का ये नारा जहां सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है। तो वहीं दूसरी तरफ बहुजन समाज पार्टी (Bahujan samaj party ) की प्रमुख मायावती (Mayawati) ने टिकैत के भाईचारे वाले नारे (आल्लाहु अकबर और हर-हर महादेव) (Allahu Akbar and Har Har Mahadev) का समर्थन करते हुए उसको अपना हथियार बनाने का प्रयास किया है। इसके सहारे ही भाजपा और सपा पर करारा वार किया है।

पढ़ें :- सरकारी कृपादृष्टि से भारत के उद्योगपतियों की पूंजी में अभूतपूर्व वृद्धि लेकिन 130 करोड़ जनता की स्थिति में सुधार नहीं : मायावती

मायावती ने सोमवार सुबह ट्वीट कर लिखा कि ‘यूपी के मुजफ्फरनगर जिले में कल हुई किसानों की जबरदस्त महापंचायत में हिन्दू-मुस्लिम साम्प्रदायिक सौहार्द के लिए भी प्रयास अति-सराहनीय है। इससे निश्चय ही सन 2013 में सपा सरकार में हुए भीषण दंगों के गहरे जख्मों को भरने में थोड़ी मदद मिलेगी, किन्तु यह बहुतों को असहज भी करेगी।

पढ़ें :- क्या फिर बसपा और सपा आ सकते हैं साथ, लोकसभा चुनाव 2024 से पहले हो सकता है गठबंधन

मायावती ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा कि’किसान देश की शान हैं तथा हिन्दू-मुस्लिम भाईचारा के लिए मंच से साम्प्रदायिक सौहार्द (Communal Harmony) के लिए लगाए गए नारों से भाजपा की नफरत से बोयी हुई उनकी राजनीतिक जमीन खिसकती हुई दिखने लगी है तथा मुजफ्फरनगर ने कांग्रेस व सपा के दंगा-युक्त शासन की भी याद लोगों के मन में ताजा कर दी है।

बीते रविवार को किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat)  के मंच से राकेश टिकैत (Rakesh Tikait)  ने समाज को एकजुट रहने के लिए जो नारा दिया था, उसको मायावती ने अपना हथियार बनाने का प्रयास किया है। टिकैत ने क्या कहा था? महापंचायत के मंच से टिकैत ने विशेषकर भाजपा को घेरते हुए कहा था कि दंगा करवाने वालों को यूपी की जनता बर्दाश्त नहीं करेगी। उन्होंने कहा था कि ये लोग तोड़ना चाहते हैं, लेकिन हमें जोड़ना है। टिकैत ने मंच से ही अल्लाहु अकबर और हर-हर महादेव के नारे (Allahu Akbar and Har Har Mahadev)  एक साथ लगवाकर एकजुट रहने की अपील की थी और वोट की चोट करने का आह्वान किया था। अब जबकि यूपी विधानसभा चुनाव (UP assembly elections) की सरगर्मियां तेज हो गई हैं। ऐसे में टिकैत का बयान सियासी गलियारों में भी चर्चा का विषय बन गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...