1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Nepal Earthquake: नेपाल में भूकंप से 128 की मौत और एक हजार से ज्यादा घायल, PM मोदी ने हर संभव मदद का दिलाया भरोसा

Nepal Earthquake: नेपाल में भूकंप से 128 की मौत और एक हजार से ज्यादा घायल, PM मोदी ने हर संभव मदद का दिलाया भरोसा

Nepal Earthquake Update: नेपाल में एक बार फिर भूकंप से भीषण तबाही मची है, यहां पर शुक्रवार (3 नवंबर 2023) को रात 11:54 मिनट पर आए 6.4 तीव्रता के भूकंप आया। जिसमें 128 लोगों के मारे जाने की खबर है और एक हजार से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं। वहीं, भारत के पीएम नरेंद्र मोदी ने नेपाल को हर संभव सहायता का भरोसा दिलाते हुए भूकंप से हुए जान-माल के नुकसान पर दुख जताया है। 

By Abhimanyu 
Updated Date

Nepal Earthquake Update: नेपाल में एक बार फिर भूकंप (Nepal Earthquake) से भीषण तबाही मची है, यहां पर शुक्रवार (3 नवंबर 2023) को रात 11:54 मिनट पर आए 6.4 तीव्रता के भूकंप आया। जिसमें 128 लोगों के मारे जाने की खबर है और एक हजार से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं। वहीं, भारत के पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने नेपाल को हर संभव सहायता का भरोसा दिलाते हुए भूकंप से हुए जान-माल के नुकसान पर दुख जताया है।

पढ़ें :- प्रधानमंत्री ने सिंदरी के उवर्रक कारखाने का किया लोकार्पण, बोले- ये मोदी की गारंटी थी और आज ये पूरी हुई...

पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा कि नेपाल में भूकंप के कारण हुई जनहानि और क्षति से अत्यंत दुखी हूं। भारत नेपाल के लोगों के साथ एकजुटता से खड़ा है और हर संभव सहायता देने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि हमारी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं और हम घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हैं। नेपाल सरकार के मुताबिक राहत और बचाव कार्य जारी है। पीएम पुष्प कमल दहल प्रचंड प्रभावित इलाकों का शनिवार (4 नवंबर 2023) को दौरा करने वाले हैं।

नेपाल आए भूकंप से सबसे अधिक प्रभावित जिले जाजरकोट और रुकुम पश्चिम है। नेपाल के पीएम के निजी सचिवालय के मुताबिक, जाजरकोट भूकंप में 91 लोगों की मौत हो गई है और 55 लोग घायल हो गए हैं। वहीं, रुकुम वेस्ट में 36 लोगों की मौत हो गई और 85 लोग घायल हो गए। राष्ट्रीय भूकंप मापन केंद्र के प्रमुख लोकविजय अधिकारी ने बताया कि भूकंप रात 11:47 बजे आया, जिसका केंद्र पश्चिम नेपाल का जाजरकोट था।

2015 भूकंप की तबाही का याद आया मंजर 

नेपाल में इस भूकंप से कई जगहों पर भूस्खलन हुआ है। कई जगहों पर लोगों को रेस्क्यू करने की कोशिश की जा रही है। भूकंप आने के बाद स्थानीय सरकार, सुरक्षा एजेंसियां, राजनीतिक दल और स्थानीय युवा राहत और बचाव के काम में लगे हुए हैं। भूकंप के बाद आये झटकों से लोगों में दहशत फैल गयी और 2015 में आये भूकंप का वह मंजर याद करा दिया, जिसमें करीब 9000 लोगों की मौत हो गयी थी।

पढ़ें :- PM Kisan Samman Nidhi : किसानों के खाते में भेजी गई 16वीं किस्त, ऐसे करें चेक आपको मिली या नहीं

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...