1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. ऐसा गांव जहां पांच साल से नहीं आई बिजली, फिर भी ग्रामीणों को देना पड़ रहा बिल

ऐसा गांव जहां पांच साल से नहीं आई बिजली, फिर भी ग्रामीणों को देना पड़ रहा बिल

बिजली व्यवस्था को लेकर जहां उत्तर प्रदेश की सरकार बड़े बड़े दम्भ भर्ती नजर आती है। वही प्रदेश में एक ऐसा गांव है जहां पांच साल से बिजली ही नहीं आई है लेकिन बिजली का बिल आता जरूर है। 

By प्रिन्स राज 
Updated Date

सीतापुर। बिजली व्यवस्था को लेकर जहां उत्तर प्रदेश की सरकार बड़े बड़े दम्भ भर्ती नजर आती है। वही प्रदेश में एक ऐसा गांव है जहां पांच साल से बिजली ही नहीं आई है लेकिन बिजली का बिल आता जरूर है। सीतापुर जिला मुख्यालय से सटा अहमदनगर गांव पांच साल से अंधेरे में डूबा है।

पढ़ें :- IPS Transfer: यूपी पुलिस महकमें में बड़ा फेरबदल, 11 आईपीएस अफसरों के हुए तबादले

महज एक ट्रांसफारमर के लिए ग्रामीण दिन में घर छोड़कर बागों में चले जाते हैं। ग्राम प्रधान एक साल से अफसरों की चौखट पर चक्कर लगा रही हैं, मगर सुनवाई नहीं। वैसे ग्रामीण पांच वर्षों से ट्रांसफारमर के लिए जददोजेहद कर रहे है। अढ़ावलपुर ग्राम सभा का यह मजरा है। इसके साथ भुलभुलिया भी मजरा है यहां लाइट आ रही है।

हसनपुर बिजली उपकेन्द्र से यह गांव जुड़ा है। इतनी शिकायतों के बाद अधिशासी अधिकारी द्वितीय विद्युत यह भी पता नहीं कर पाए कि गांव किस बिजली केन्द्र से जुड़ा है। ग्रामीणों के घर बिजली के बिल लगातार आ रहे है। 60 फीसदी लोगों ने कनेक्शन कटवा लिए, कई बिल जमा नहीं कर पा रहे।

40 हजार तक बिल आ गया है। जमील का बिल 40 हजार आया है। शहाबुददीन का पांच हजार आया है। ग्राम प्रधान सन्नो का 15 हजार के आसपास। बशरुददीन का बिल चार हजार आया है।  अमीन का तीन हजार रुपए बिल आया है। इसका ब्योरा ग्राम प्रधान सन्नो ने सम्पूर्ण समाधान दिवस पर डीएम को दिया है।

पढ़ें :- मोदी जी और शाह जी आप भले दूध नहीं पीते, लेकिन देश के बच्चों को तो दूध पीना ज़रूरी है : अधीर रंजन चौधरी
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...