HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. ताउते के बाद ‘यास’ चक्रतवात का खतरा बढ़ा, ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तट से गुजरने की आशंका

ताउते के बाद ‘यास’ चक्रतवात का खतरा बढ़ा, ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तट से गुजरने की आशंका

देश के कई राज्यों में ताउते का कहर जमकर बरपा। ताउते के बाद अब चक्रवाती तूफान यास का खतरा मंडराने लगा है। चक्रवात के खतरे को देखते हुए राज्यों में अलर्ट घोषित कर दिया गया है। बता दें कि, ताउते ने गुजरात और महाराष्ट्र में जमकर कहर बरपाया है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। देश के कई राज्यों में ताउते का कहर जमकर बरपा। ताउते के बाद अब चक्रवाती तूफान यास का खतरा मंडराने लगा है। चक्रवात के खतरे को देखते हुए राज्यों में अलर्ट घोषित कर दिया गया है। बता दें कि, ताउते ने गुजरात और महाराष्ट्र में जमकर कहर बरपाया है।

पढ़ें :- SC ने माना कि NEET-UG का पेपर हुआ था लीक, मोदी सरकार 'उल्टा चोर, कोतवाल को डांटे' वाला रच रही है ढ़ोंग : मल्ल‍िकार्जुन खड़गे

भारतीय मौसम विज्ञान के मुताबिक, 26 मई को यास चक्रवात ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तट से गुजरने की आशंका जताने के मद्देनजर ओडिशा सरकार ने 30 में से 14 जिलों को सतर्क कर दिया है। राज्य सरकार ने शुक्रवार को भारतीय नौसेना एवं भारतीय तट रक्षक बल से स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने का आग्रह किया है।

मौसम विज्ञान के मुताबिक, 22 मई को बंगाल की खाड़ी के पूर्वी मध्य हिस्से पर एक कम दबाव का क्षेत्र बनेगा जो चक्रवाती तूफान में बदल सकता है और 26 मई को ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तटों से टकरा सकता है।

ओडिशा के मुख्य सचिव एससी मोहपात्रा ने वरिष्ठ अधिकारियों के संग बैठक के बाद कहा कि अगर चक्रवात ‘यास’ का राज्य पर कोई प्रभाव पड़ता है तो राज्य सरकार ने किसी भी स्थिति से निपटने के लिए कमर कस ली है।

 

पढ़ें :- कपिल सिब्बल ने सपा अध्यक्ष का लिया इंटरव्यू...अखिलेश यादव ने PDA से लेकर लोकसभा चुनाव परिणाम को लेकर दिए ये जवाब

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...