HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. नेजल स्प्रे कोरोना महामारी का हवा में करेगा काम तमाम , जानें इसकी खास बातें

नेजल स्प्रे कोरोना महामारी का हवा में करेगा काम तमाम , जानें इसकी खास बातें

कोरोना महामारी के कहर के बीच एक अच्छी खबर आई है। कनाडा की कंपनी सैनोटाइज (SaNOtize) ने दावा किया है कि उसने ऐसा नेजल स्प्रे बनाया है, जो 99.99 फीसदी कोरोना वायरस को खत्म कर देता है। इस कंपनी का दावा है कि यह स्प्रे कोरोना से बीमार लोगों को जल्दी ठीक कर देगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के कहर के बीच एक अच्छी खबर आई है। कनाडा की कंपनी सैनोटाइज (SaNOtize) ने दावा किया है कि उसने ऐसा नेजल स्प्रे बनाया है, जो 99.99 फीसदी कोरोना वायरस को खत्म कर देता है। इस कंपनी का दावा है कि यह स्प्रे कोरोना से बीमार लोगों को जल्दी ठीक कर देगा।

पढ़ें :- IND vs ZIM: भारत ने जिम्बाब्वे को 10 विकेट से हराया, जायसवाल-गिल ने जड़े अर्धशतक

कनाडा की कंपनी सैनोटाइज ने कहा कि उनका नाक में डालने वाला स्प्रे हवा में ही कोरोना वायरस को खत्म करना शुरू कर देता है। इस नाइट्रिक ऑक्साइड नेजल स्प्रे को मरीजों को खुद अपनी नाक में डालना होता है। यह नाक में वायरल लोड को कम कर देता है। इससे न तो वायरस पनप पाता है और न ही फेफड़ों में जाकर नुकसान पहुंचा पाता है। इस नेजल स्प्रे का परीक्षण अमेरिका और ब्रिटेन में सफल रहा है। सैनोटाइज का दावा है कि नेजल स्प्रे ने 24 घंटे के भीतर वायरल लोड को 95 फीसदी घटाकर कम कर दिया। इतना ही नहीं 72 घंटों में 99 फीसदी वायरल लोड कम हो गया है।

जानें भारत में कब लांच होगा?

फिलहाल कंपनी ने ब्रिटेन और कनाडा में इमरजेंसी अप्रूवल की अनुमति मांगी है। कई देशों ने इस स्प्रे को इलाज के लिए मंजूरी दे दी है। सैनोटाइज की सीईओ ने कहा कि कंपनी भारत में कारोबारी साझेदार की तलाश में है।

भारत बायोटेक की नेजल वैक्सीन?

पढ़ें :- सात राज्यों में हुए उपचुनाव के नतीजों ने स्पष्ट कर दिया है कि भाजपा का बुना गया ‘भय और भ्रम’ का जाल टूट चुका है: राहुल गांधी

भारत में कोवैक्सिन बना रही भारत बायोटेक ने अपनी नेजल वैक्सीन कोरोफ्लू के ट्रायल्स जनवरी में शुरू किए थे।भारत बायोटेक के फाउंडर डॉ. कृष्णा एल्ला के मुताबिक, नेजल वैक्सीन को एक ही बार देना होगा। अब तक हुई रिसर्च में यह बेहतर विकल्प साबित हुई है। इसके लिए कंपनी ने वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के साथ करार किया है।

पुणे की कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और कोडाजेनिक्स को यूके में ड्रग रेगुलेटर (मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी) से जनवरी में ही सिंगल-डोज इंट्रानेजल लाइव वैक्सीन के फेज-1 क्लिनिकल ट्रायल्स के लिए मंजूरी मिली है। कोडाजेनिक्स के अनुसार कोवी वैक COVI-VAC ने प्री-क्लिनिकल स्टडी में सेफ और इफेक्टिवनेस दिखाई है। उम्मीद की जा रही है कि जून-2021 में अगले दौर के क्लिनिकल ट्रायल्स शुरू किए जाएंगे।

पूरे देश में कोरोना की दूसरी लहर की वजह से हाहाकार मचा है। हर दिन सामने आने वाले मरीजों की संख्या लगातार तीसरे दिन सोमवार को 3 लाख से अधिक रही। संक्रमण के चलते जान गंवाने वालों का आंकड़ा 1.80 लाख के पार हो गया। हर दिन हो रहीं मौतों के मामले में भारत फिर से टॉप पर पहुंच गया है। दूसरे नंबर पर ब्राजील और तीसरे पर अमेरिका है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...