1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Tulsi Vivah 2021: तुलसी विवाह का शुभ मुहूर्त, पूजन सामग्री लिस्ट और महत्व

Tulsi Vivah 2021: तुलसी विवाह का शुभ मुहूर्त, पूजन सामग्री लिस्ट और महत्व

Tulsi Vivah 2021: हिंदू धर्म में तुलसी विवाह (Tulsi Vivah ) का विशेष महत्व है। इसे देवउठनी एकादशी (Devuthani Ekadashi)  या देवोत्थान एकादशी (Devotthan Ekadashi) कहते हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार, कार्तिक मास (Kartik month) के शुक्ल पक्ष (shukl paksh) की एकादशी को तुलसी विवाह (Tulsi Vivah )  का पावन पर्व मनाया जाता है। इस साल तुलसी विवाह (Tulsi Vivah ) 15 नवंबर सोमवार को मनाया जाएगा। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu)  चार महीने बाद योग निद्रा से उठते हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Tulsi Vivah 2021: हिंदू धर्म में तुलसी विवाह (Tulsi Vivah ) का विशेष महत्व है। इसे देवउठनी एकादशी (Devuthani Ekadashi)  या देवोत्थान एकादशी (Devotthan Ekadashi) कहते हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार, कार्तिक मास (Kartik month) के शुक्ल पक्ष (shukl paksh) की एकादशी को तुलसी विवाह (Tulsi Vivah )  का पावन पर्व मनाया जाता है। इस साल तुलसी विवाह (Tulsi Vivah ) 15 नवंबर सोमवार को मनाया जाएगा। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu)  चार महीने बाद योग निद्रा से उठते हैं।

पढ़ें :- Aaj ka Panchang: कार्तिक कृष्ण पक्ष द्वादशी, जाने अशुभ समय शुभ मुहूर्त और राहुकाल

शास्त्रों के अनुसार, चार्तुमास (Chartumas) में शुभ व मांगलिक कार्यों की मनाही होती है। देवउठनी एकादशी (Devuthani Ekadashi) के साथ ही मांगलिक कार्य शुरू हो जाते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस दिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu) का शालीग्राम अवतार (shaligram avatar) में विवाह माता तुलसी के साथ हुआ था।

तुलसी विवाह (Tulsi Vivah)  शुभ मुहूर्त

एकादशी तिथि 15 नवंबर को सुबह 05 बजकर 09 मिनट से प्रारंभ होगी, जो कि 16 नवंबर की शाम 07 बजकर 45 मिनट तक रहेगी।

तुलसी विवाह (Tulsi Vivah)  का महत्व

पढ़ें :- Aaj ka Panchang: कार्तिक कृष्ण पक्ष प्रतिपदा, जाने अशुभ समय शुभ मुहूर्त और राहुकाल

मान्यता है कि देवउठनी एकादशी (Devuthani Ekadashi)   के दिन तुलसी और भगवान शालीग्राम (Lord Shaligram) का विधिवत पूजन करने से मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। वैवाहिक जीवन में आ रही बाधाओं से मुक्ति मिलती है। इतना ही नहीं कहा जाता है कि इस दिन तुलसी विवाह (Tulsi Vivah  कराने से कन्यादान समान पुण्य प्राप्त होता है। भगवान विष्णु (Lord Vishnu)  के योग निद्रा से उठने के साथ ही इस दिन से मांगलिक कार्य शुरू हो जाते हैं।

तुलसी पूजा (Tulsi Puja) में लगाएं ये चीजें

देवउठनी एकादशी (Devuthani Ekadashi)   पर पूजा स्थल में गन्नों से मंडप सजाया जाता है। उसके नीचे भगवान विष्णु (Lord Vishnu)  की प्रतिमा विराजमान कर मंत्रों से भगवान विष्णु (Lord Vishnu)  को जगाने के लिए पूजा की जाती है।

तुलसी पूजा (Tulsi Puja) में भगवान को करें अर्पित

पूजा में मूली, शकरकंद, सिंघाड़ा, आंवला, बेर, मूली, सीताफल, अमरुद और अन्य ऋतु फल चढाएं जाते हैं।

पढ़ें :- Panchang for 19 October 2022: कार्तिक कृष्ण पक्ष दशमी, जाने अशुभ समय शुभ मुहूर्त और राहुकाल के बारे में...

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...