1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. वास्तु शास्त्र: पूजा के दौरान कभी भी भगवान को न चढ़ाएं ये फूल, जानिए क्यों

वास्तु शास्त्र: पूजा के दौरान कभी भी भगवान को न चढ़ाएं ये फूल, जानिए क्यों

आज के वास्तु शास्त्र में, उन फूलों की सूची साझा करते हैं जिन्हें पूजा के दौरान भगवान को नहीं चढ़ाना चाहिए। वास्तु के नियमों के अनुसार अक्षत यानी चावल, मदार और धतूरे के फूल भगवान विष्णु को नहीं चढ़ाना चाहिए। यहां जानिए इसके पीछे की वजह!

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

वास्तु शास्त्र में आज हम बात करेंगे देवताओं और फूलों की। देवी-देवताओं का एक विशेष प्रकार का ऊर्जा पैटर्न और फूलों की सुगंध और रंग का संयोजन होता है और वे सीधे घर के वास्तु शास्त्र से संबंधित होते हैं। इस सत्य को पहचानते हुए भारतीय ऋषियों ने तंत्र सार, मंत्र महोदधि और लघु हरित में लिखा है।

पढ़ें :- Holi 2023 Date : भक्त प्रहलाद की याद में होलिका दहन की हुई शुरुआत, जानिए किस दिन खेली जाएगी होली

फूलों से पड़ता है किस्मत पर प्रभाव, जानें कौन-सा पुष्प रखें पास - flowers-have-effects-on-luck-find-out-which-flower-keep-near

इसमें कहा गया है कि सफेद और पीले फूल विष्णु को प्रिय हैं, लाल फूल सूर्य, गणेश और भैरव को प्रिय हैं, भगवान शंकर को सफेद फूल पसंद हैं लेकिन यह जानना महत्वपूर्ण है कि कौन सा ऊर्जा पैटर्न, कौन सा रंग या गंध अनुकूल नहीं है।

आपको बता दें कि भगवान विष्णु को अक्षत यानी चावल, मदार और धतूरे के फूल नहीं चढ़ाना चाहिए। देवी को दूब, मदार, हरसिंगार, बेल और तगर नहीं चढ़ाना चाहिए। चंपा और कमल के अलावा किसी भी फूल की कली माता को नहीं चढ़ानी चाहिए, कटासराय, नागचंपा और बृहति के फूल वर्जित माने जाते हैं।

पढ़ें :- Dream secret : भोर में देखे गए स्वप्न सच हो जाते हैं, जानिए सपनों की दुनिया के रहस्य
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...