1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Afghanistan crisis: तालिबान ने दिखाया अपना असली रूप, बामियान में विरोधी नेता की मूर्ति हटाई

Afghanistan crisis: तालिबान ने दिखाया अपना असली रूप, बामियान में विरोधी नेता की मूर्ति हटाई

अफगानिस्तान (Afghanistan)  में काबुल (Kabul)  सहित देश के अधिकतर हिस्सों पर तालिबान (Taliban) का कब्जा हो चुका है। कब्जे के बाद तालिबान (Taliban) सरकार बनाने की तैयारी में जुटा है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

काबुल: अफगानिस्तान (Afghanistan)  में काबुल (Kabul)  सहित देश के अधिकतर हिस्सों पर तालिबान (Taliban) का कब्जा हो चुका है। कब्जे के बाद तालिबान (Taliban) सरकार बनाने की तैयारी में जुटा है। राष्ट्रपति अशरफ गनी बेशक देश छोड़कर भाग गए हों, मगर उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह (Vice President Amarulla Saleh) अभी भी तालिबान से लड़ाई लड़ रहे हैं। बुधवार को सोशल मीडिया पर प्रसारित तस्वीरों के अनुसार, तालिबान ने 1990 के दशक में अफगानिस्तान के गृहयुद्ध के दौरान उनके खिलाफ लड़ने वाले शिया मिलिशिया नेता (Shia Militia Leader) की प्रतिमा को हटा दिया है। 25 साल पहले तालिबान ने ही अब्दुल अली मजारी (Abdul Ali Mazari) की हत्या कर दी थी।

पढ़ें :- बिहार: लालू यादव का नीतीश सरकार पर निशाना, कहा-तेजस्वी ने कचूमर निकाल दिया मैं विसर्जन करुंगा

पढ़ें :- Chhath Puja 2021 : दिल्ली में सार्वजनिक स्थलों पर मना सकेंगे छठ पूजा, DDMA की बैठक में फैसला

मानवाधिकार कार्यकर्ता और पत्रकार सलीम जावेद ने ट्विटर (Twitter) पर तस्वीर शेयर करते हुए दावा किया है कि तालिबान ने बामियान में बनी अब्दुल अली मजारी की मूर्ति को हटा दिया है।

अब्दुल अली मजारी तालिबान के विरोधी माने जाते थे। 1946 में जन्मे अब्दुल मजारी सोवियत सेना के खिलाफ भी लड़ चुके थे। अब्दुल मजारी हिज्ब-ए-वहादत (Hizb-e-Wahdat Party)  पार्टी के पार्टी के नेता थे। वो हजारा समुदाय (Hazara community) से आते थे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...