1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. CSIR-CIMAP : औषधीय पौधों की बढ़ती मांग को पूरा करने हेतु उद्यमियों से चर्चा

CSIR-CIMAP : औषधीय पौधों की बढ़ती मांग को पूरा करने हेतु उद्यमियों से चर्चा

सीएसआईआर-सीमैप (CSIR-CIMAP) लखनऊ का लक्ष्य औषधीय व सुगंधित पौधों की सरल कृषि तकनीकियों एवं क़िस्मों का विकास कर किसानों तक पहुंचाना है। इसके साथ ही औषधीय फसलों को अच्छे दाम मिले। इसका भी प्रयास लगातार संस्थान के तरफ से किया जा रहा है । इस संबंध में आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत सोमवार को केन्द्रीय औषधीय एवं सगंध पौधा संस्थान (सीमैप), लखनऊ में हाइब्रिड मोड (ऑनलाइन/ऑफलाइन) में वैज्ञानिक एवं हर्बल उद्यमियों की बैठक का आयोजन किया गया।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। सीएसआईआर-सीमैप (CSIR-CIMAP) लखनऊ का लक्ष्य औषधीय व सुगंधित पौधों की सरल कृषि तकनीकियों एवं क़िस्मों का विकास कर किसानों तक पहुंचाना है। इसके साथ ही औषधीय फसलों को अच्छे दाम मिले। इसका भी प्रयास लगातार संस्थान के तरफ से किया जा रहा है । इस संबंध में आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत सोमवार को केन्द्रीय औषधीय एवं सगंध पौधा संस्थान (सीमैप), लखनऊ में हाइब्रिड मोड (ऑनलाइन/ऑफलाइन) में वैज्ञानिक एवं हर्बल उद्यमियों की बैठक का आयोजन किया गया।

पढ़ें :- बेसिक शिक्षा विभाग ने निपुण भारत मिशन प्रचार-प्रसार के लिये जारी किये  आवश्यक निर्देश 

इस बैठक में देश के विभिन्न राज्यों से 15 से अधिक उद्यमियों ने ऑनलाइन तथा ऑफलाइन भाग लिया । इस बैठक का उदघाटन सीएसआईआर-सीमैप के निदेशक, डॉ. प्रबोध कुमार त्रिवेदी ने किया । डॉ. प्रबोध कुमार त्रिवेदी ने प्रतिभागियों का स्वागत करते हुये कहा कि इस गोष्ठी के आयोजन का मुख्य उद्देश्य यह है कि किसानों को औषधीय फसलों की खेती से उत्पादित कच्चे माल के अच्छे दाम व सुलभ बाज़ार उपलब्ध कराना है । उन्होंने आगे कहा कि सीएसआईआर-सीमैप (CSIR-CIMAP) किसानों व उद्यमियों को एक मंच पर लाकर अपने दायित्व का निर्वहन कर रहा है, ताकि किसानों के उत्पादों के उचित मूल्य के साथ-साथ उद्योग को अच्छा व गुणवत्तायुक्त कच्चा माल उपलब्ध हो सके।

निदेशक, सीएसआईआर-सीमैप ने आगे कहा कि औषधीय पौधों की खेती कर्ताओं को व्यवस्थित बाजार उपलब्ध कराना सीमैप का लक्ष्य है। इससे पूर्व डॉ. संजय कुमार, प्रधान वैज्ञानिक व संयोजक ने गोष्ठी के महत्व व सीएसआईआर-सीमैप (CSIR-CIMAP) के तरफ से किए जा रहे प्रयासों पर प्रकाश डाला । सीएसआईआर-सीमैप के वैज्ञानिक डॉ. ए. के. गुप्ता ने सगंध पौधों मे किए गए शोधों पर प्रकाश डाला । डॉ. अनिरबान पाल व डॉ. करुणा शंकर ने सीमैप के हर्बल उत्पाद और भविष्य में उद्यमियों के लिए की जाने वाली एनालिटिकल सुविधाओं के बारे में बताया।

उद्योग से जुड़े सी. के. कटियार, इमामी, कोलकाता, अमित अग्रवाल, नैचुरल रेमेडीज़, बैंगलोर, डॉ. कन्नान, हिमालय वेलनेस, राजेश कुमार, एम.एस.एम.ई., रमेश चन्द्र उनियाल, झंडू फार्मा, अमित सरदेसाई, डाबर इंडिया लिमिटेड, श्री गिरिराज यादव, पतंजलि आयुर्वेद,विमल शुक्ला, मेघदूत, लखनऊ, अरुणिमा जैन, द चटर्जी ग्रुप से डॉ. पी. भट्टाचार्य, टिएरा सीड्स एवं डॉ. सैमुअल राय, डाइरेक्टोरेट एग्रीकल्चर ने भाग लिया एवं अपने-अपने विचार रखे ।

आज की बैठक मे डॉ. संजय कुमार ने कार्यक्रम का संचालन किया। इस दौरान डॉ. आलोक कालरा, डॉ. ए. के. गुप्ता, डॉ. एन. पी. यादव, डॉ. डी. एन. मनी, डॉ. करुणा शंकर, डॉ. मनोज सेमवाल, डॉ. राम सुरेश शर्मा, डॉ. ऋषिकेश एन. भिसे, दीपक कुमार वर्मा व मनोज कुमार यादव संस्थान के वैज्ञानिक मौजूद रहे । डॉ. रमेश कुमार श्रीवास्तव ने धन्यवाद ज्ञपित किया ।

पढ़ें :- उप्र माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद की पूर्व मध्यमा से उत्तर मध्यमा स्तर तक की परीक्षाओं का कैलेण्डर जारी

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...