1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. हैदरगढ़ रेलवे स्टेशन : रेलवे कालोनी निमार्ण में घोटाला, उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के अधिकारी बने मूकदर्शक

हैदरगढ़ रेलवे स्टेशन : रेलवे कालोनी निमार्ण में घोटाला, उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के अधिकारी बने मूकदर्शक

उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के सुल्तानपुर उपमंडल अन्तर्गत हैदरगढ़ रेलवे स्टेशन पर रेलवे कालोनी में मरम्मत का कार्य चल रहा है, जिसमें जमकर भ्रष्टाचार किया जा रहा है। कर्मचारियों ने बताया कि मरम्मत कार्य में दीवार जोड़ाई व प्लास्टर कार्य में उपयोगी की जाने वाली सामग्री काफी घटिया है। मसाले में लाल बालू के बदले प्रचुर मात्रा में सफेद बालू मिलाया जा रहा है, सीमेन्ट व लाल बालू नाम मात्र का प्रयोग किया गया है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ । उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के सुल्तानपुर उपमंडल अन्तर्गत हैदरगढ़ रेलवे स्टेशन पर रेलवे कालोनी में मरम्मत का कार्य चल रहा है, जिसमें जमकर भ्रष्टाचार किया जा रहा है। कर्मचारियों ने बताया कि मरम्मत कार्य में दीवार जोड़ाई व प्लास्टर कार्य में उपयोगी की जाने वाली सामग्री काफी घटिया है। मसाले में लाल बालू के बदले प्रचुर मात्रा में सफेद बालू मिलाया जा रहा है, सीमेन्ट व लाल बालू नाम मात्र का प्रयोग किया गया है।

पढ़ें :- यातायात निरीक्षक व स्टेशन अधीक्षक की तानाशाही रेलवे कर्मचारी परेशान, आठ के बदले 12 घंटे कराया जा रहा है काम

मंडल तक शिकायत करने पर भी कोई कार्यवाही नहीं होने के कारण ठेकेदार का मनोबल और हो गया ऊंचा 

रसोई घर का स्लैब एवं नाली के ढक्कन में सरिया भी मानक के अनुरुप नहीं है जिसके कारण एक स्लैब टूट कर गिर भी गया था, कर्मचारियों की मानें तो मरम्मत किये गए दीवार व फर्श पर हाथ लगाने पर किया गया प्लास्टर तेजी से झड़ने लगता है।आवास मरम्मत में घटिया मसाला प्रयोग करने पर कर्मचारियों ने इसका पुरजोर विरोध किया था। इसकी शिकायत मंडल के अधिकारियों से किया, परन्तु किसी ने इस पर ध्यान नही दिया। मंडल तक शिकायत करने पर भी कोई कार्यवाही नहीं होने के कारण ठेकेदार का मनोबल और ऊंचा हो गया।

जांच मंडल के बाहर के अधिकारियों से कराने की मांग

कार्यस्थल पर काम करा रहे ठेकेदार के मुंशी बताया कि हमारा ठेकेदार राजनैतिक पकड़ वाला है, मैं चाहे कितना भी घटिया काम कराउ तब भी हमारा बिल पास हो जाएगा। रेलवे कर्मचारियों के शिकायत करने में कुछ नहीं रखा है। कार्य की जांच के लिए IOW से कर्मचारियों ने शिकायत किया था, परंतु उन्होंने कोई ध्यान नहीं दिया। जिससे रेलवे कर्मचारियों में रोष है, उनका कहना है कि इसमें भ्रष्टाचार की बू नजर आ रही है, इसलिए इसका जांच मंडल के बाहर के अधिकारियों से कराने की आवश्यकता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...