1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. शरीर के इस वेग को रोका तो हो सकती है मौत, इसे रोकने की न करें कोशिश

शरीर के इस वेग को रोका तो हो सकती है मौत, इसे रोकने की न करें कोशिश

By आराधना शर्मा 
Updated Date

नई दिल्ली: हमारे शरीर के बहुत सारे वेग होते हैं, जिनमें मुख्य तौर पर भूख लगना, प्यास लगना, छीक आना, पेशाब लगना, उल्टी की इच्छा, जम्हाई आना इत्यादि है, जो शरीर की जरूरत है। इसलिए इन वेगों को कभी भी नहीं रोकना चाहिए।

पढ़ें :- क्या करेले या करेले का जूस डायबिटीज (Diabetes) प्री-डायबिटीज वाले लोगों के लिए फायदेमंद है?

नहीं तो इसके विपरीत परिणाम होते हैं। शरीर के वेग में से कुछ आवश्यक वेग की जानकारी हम आपको देने जा रहे हैं। ये शरीर के वेग जिन्हें रोकने से हमें कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

आंसू का वेग

कहते हैं दुख में आंसू ना निकले तो व्यक्ति पागल तक हो सकता है। या किसी सदमे से उसकी मृत्यु भी हो सकती है। इसको रोकने से मस्तिष्क मे भारीपन रहना, नेत्र दोष, जुकाम, ह्रदय रोग, अरुची आदि के रोग की संभावना बढ़ जाती है।

नींद का वेग

पढ़ें :- तेलंगाना का रामप्पा मंदिर (Telanganas-ramappa-temple) यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल बन गया

नींद के वेग को रोकने से शरीर की प्रतिरोधक शक्ति कम होती है, और चिड़चिड़ापन आता है।

मूत्र वेग

मूत्र वेग को कभी भी नहीं रोकना चाहिए, ऐसा करने से मूत्र की थैली में संक्रमण होने का खतरा रहता है। लिंग इंद्रियों में दर्द होता है। मस्तिष्क में दर्द की शिकायत रहती है। मूत्र रुक-रुककर आता है। और आंखों की रोशनी भी कम होने लगती है।

वीर्य का वेग (काम वेग)

कहते हैं वीर्य के वेग को रोकने से प्रोस्टेट के कैंसर होने का खतरा रहता है। मूत्राशय में सूजन, गुर्दे में पीड़ा, पेशाब का कष्ट से होना, शुक्र की पथरी और वीर्य के रिसने जैसे अनेक रोग होने की संभावना होती है।

पढ़ें :- स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया, बोले- भारत में अगले माह हो जाएगा शुरू बच्चों का वैक्सीनेशन
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...