1. हिन्दी समाचार
  2. तकनीक
  3. रचा इतिहास : भारतीय मूल के सत्या नडेला बने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के नए चेयरमैन

रचा इतिहास : भारतीय मूल के सत्या नडेला बने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के नए चेयरमैन

भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक और माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला बुधवार को कंपनी का नया चेरमैन नामित किया गया है। बता दें कि सत्या नडेला जॉन थॉम्पसन का स्थान लेंगे। यह जानकरी कंपनी ने बयान जारी कर दी है। सत्या नडेला वर्ष 2014 में माइक्रोसॉफ्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) बने थे। इसके बाद सत्या नडेला ने लिंकडइन, न्यूनस कम्युनिकेशंस और जेनीमैक्स जैसी कई कंपनियों के अरबों डॉलर के अधिग्रहण में अहम भूमिका निभाई। 

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक और माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला बुधवार को कंपनी का नया चेरमैन नामित किया गया है। बता दें कि सत्या नडेला जॉन थॉम्पसन का स्थान लेंगे। यह जानकरी कंपनी ने बयान जारी कर दी है।

पढ़ें :- Saudi Arab: सऊदी अरब ने टीकाकरण वाले यात्रियों के लिए यात्रा प्रतिबंध हटा दिए, इस शर्त पर आने की मिली अनुमति

सत्या नडेला वर्ष 2014 में माइक्रोसॉफ्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) बने थे। इसके बाद सत्या नडेला ने लिंकडइन, न्यूनस कम्युनिकेशंस और जेनीमैक्स जैसी कई कंपनियों के अरबों डॉलर के अधिग्रहण में अहम भूमिका निभाई।

माइक्रोसॉफ्ट ने एक बयान जारी सत्या नडेला को कंपनी का चैयरमैन बनाए जाने की जानकारी दी। इसमें कहा कि सीईओ सत्या नडेला अब माइक्रोसॉफ्ट के नए चैयरमैन होंगे। नडेला से पहले थॉम्पसन कंपनी के चैयरमैन थे। थॉम्पसन अब प्रमुख स्वतंत्र निदेशक रहेंगे। वर्ष 2014 में थॉम्पसन ने बिल गेट्स के बाद माइक्रोसॉफ्ट के चेयरमैन का पद संभाला था।

बता दें कि माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स अब कंपनी के बोर्ड में नहीं हैं। वे बिल एवं मेलिंडा गेट्स के परोपकारी कार्यों पर ध्यान दे रहे हैं। कंपनी ने हाल में ही प्रति शेयर 56 सेंट का तिमाही लाभांश देने का निर्णय लिया है।

हैदराबाद से हुई थी नडेला की स्कूली शिक्षा 

पढ़ें :- सावधान हो जाईए! देश में बढ़ी कोरोना की तीसरी लहर की आशंका, 44 हजार से ज्यादा संक्रमित मिले

सत्या नडेला का जन्म भारत के हैदराबाद में साल 1967 में हुआ था। उनके पिता एक प्रशासनिक अधिकारी और मां संस्कृत की लेक्चरर थीं। उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा हैदराबाद पब्लिक स्कूल से करने के बाद साल 1988 में मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की थी। इसके बाद वे कंप्यूटर साइंस में परास्नातक करने के लिए अमेरिका चले गए। उन्होंने 1996 में शिकागो के बूथ स्कूल ऑफ बिजनेस से एमबीए किया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...