1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Karwa Chauth 2022 : करवा चौथ पर बन रहे शुभ संयोग, जानें पूजन विधि और मुहूर्त

Karwa Chauth 2022 : करवा चौथ पर बन रहे शुभ संयोग, जानें पूजन विधि और मुहूर्त

Karwa Chauth 2022 Date: सुहागिन महिलाओं  (Married Women) द्वारा यह व्रत पति की लंबी आयु के लिए रखा जाता है। मान्यता है कि इस व्रत को रखने से सुहागिन महिलाओं (Married Women)  को अखंड सौभाग्य (Unbroken Good Luck) व खुशहाल वैवाहिक जीवन (Happy Married Life)की प्राप्ति होती है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Karwa Chauth 2022 Date: सुहागिन महिलाओं  (Married Women) द्वारा यह व्रत पति की लंबी आयु के लिए रखा जाता है। मान्यता है कि इस व्रत को रखने से सुहागिन महिलाओं (Married Women)  को अखंड सौभाग्य (Unbroken Good Luck) व खुशहाल वैवाहिक जीवन (Happy Married Life)की प्राप्ति होती है। हिंदू पंचांग (Hindu Calendar) के अनुसार, करवा चौथ व्रत (Karva Chauth Fast) हर साल कार्तिक मास (Kartik month) के कृष्ण पक्ष (Krishna Paksha) की चतुर्थी तिथि (Chaturthi Tithi) को रखा जाता है। इस साल करवा चौथ व्रत (Karva Chauth Fast)  13 अक्टूबर 2022 को रखा जाएगा।

पढ़ें :- Karwa Chauth 2022: करवा चौथ के व्रत में इन बातों का रखें ध्यान, जानें व्रत की तिथि और महत्व

करवा चौथ पर है बेहद शुभ संयोग

करवा चौथ(Karva Chauth) के दिन चंद्रमा उच्च राशि वृषभ में संचरण करेंगे। 13 अक्टूबर को शाम 06 बजकर 41 मिनट तक कृतिका नक्षत्र और उसके बाद रोहिणी नक्षत्र शुरू होगा। दोपहर 01 बजकर 55 मिनट तक सिद्धि योग रहेगा। इन सभी योगों को ज्योतिष शास्त्र (Astrology) Vमें बेहद शुभ माना गया है।

शुभ मुहूर्त

कार्तिक महीने (Kartik month) के कृष्‍ण पक्ष (Krishna Paksha)  की चतुर्थी तिथि (Chaturthi Tithi) 12 अक्‍टूबर की रात 2 बजे से शुरू होगी, जो कि 13 अक्टूबर की रात 03 बजकर 09 मिनट तक रहेगी। उदया तिथि में करवा चौथ व्रत (Karva Chauth Fast)  13 अक्टूबर को रखा जाएगा।

पढ़ें :- Karva Chauth 2022 : करवा चौथ व्रत  इस दिन पड़ रहा है , जीवनसाथी की सलामती के लिए सुहागिने करती है कठिन व्रत का पालन   

 पूजन मुहूर्त 

ब्रह्म मुहूर्त- 04:41 सुबह से 05:31 सुबह ।
अभिजित मुहूर्त- 11:44 सुबह से 12:30 दोपहर।
विजय मुहूर्त- 02:03 दोपहर से 02:49 दोपहर।
गोधूलि मुहूर्त- 05:42 शाम से 06:06 शाम।
अमृत काल- 04:08 शाम से 05:50 शाम।

 पूजन विधि

इस पावन दिन शिव परिवार की पूजा- अर्चना की जाती है।
सबसे पहले भगवान गणेश की पूजा करें। किसी भी शुभ कार्य से पहले भगवान गणेश की पूजा की जाती है।
माता पार्वती, भगवान शिव और भगवान कार्तिकेय की पूजा करें।
करवा चौथ के व्रत में चंद्रमा की पूजा की जाती है।
चंद्रमा को अर्घ्य दें।
चंद्र दर्शन के बाद पति को छलनी से देखें।
इसके बाद पति द्वारा पत्नी को पानी पिलाकर व्रत तोड़ा जाता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...