1. हिन्दी समाचार
  2. तकनीक
  3. Koo App New Logo लॉन्च, कंपनी ने कहा- सकारात्मकता से भरी है नई चिड़िया

Koo App New Logo लॉन्च, कंपनी ने कहा- सकारात्मकता से भरी है नई चिड़िया

देसी माइक्रोब्लॉगिंगसाइट कू (Koo) ने गुरुवार को अपने नए लोगो को लॉन्च कर दिया है। नया चिन्ह एक पीली चिड़िया ही है मगर एक नए रूप में। कू के नए लोगो को श्री श्री रवि शंकर ने अपने 65वें जन्मदिन के शुभ अवसर पर लॉन्च किया है। "कू" एक भारतीय माइक्रो-ब्लॉग है जो कई भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Koo App New Logo Launched Company Said New Bird Is Full Of Positivity

नई दिल्ली। देसी माइक्रोब्लॉगिंगसाइट कू (Koo) ने गुरुवार को अपने नए लोगो को लॉन्च कर दिया है। नया चिन्ह एक पीली चिड़िया ही है मगर एक नए रूप में। कू के नए लोगो को श्री श्री रवि शंकर ने अपने 65वें जन्मदिन के शुभ अवसर पर लॉन्च किया है। “कू” एक भारतीय माइक्रो-ब्लॉग है जो कई भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है। इस एप को मार्च 2020 में लॉन्च किया गया था और अभी तक कू के पास 6 मिलियन से अधिक यूजर्स हो गए हैं।

पढ़ें :- नई गाइडलाइंस लागू न करने पर ट्विटर के खिलाफ केंद्र सरकार पहुंची दिल्ली हाईकोर्ट

आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक, श्री श्री रवि शंकर ने नए लोगो की लॉन्चिंग पर कहा कि सामाजिक संपर्क और सूचना का प्रवाह सभ्य समाज के संकेत हैं। कू एप देश और दुनियाभर में लाखों लोगों को जोड़ रही है। आज मैं कू एप के नए लोगो को लॉन्च करके खुश हूं। इतने कम समय में इस तरह की शानदार सोशल मीडिया एप को बनाने के लिए अप्रमेय और उनकी टीम को मेरी ओर से बधाई।

कू के सह-संस्थापक, अप्रमेय राधाकृष्ण ने कहा कि हम अपनी नई पहचान को सबके सामने लाने के लिए बहुत उत्साहित हैं। यह नया रूप है और हमारी नन्ही पीली चिड़िया के बालपन से किशोरावस्था में बढ़ने का संकेत है। यह चिड़िया सकारात्मकता से भरी हुई है और लोगों को जीवन के विभिन्न पहलुओं के बारे में सबसे सकारात्मक तरह से वार्ता और चर्चा करने के लिए प्रेरित करेगी। यह नन्हा पक्षी उड़ने के लिए तैयार है। हम गुरुदेव श्री श्री रवि शंकर के आभारी हैं कि उन्होंने अपने 65 वें जन्मदिन के शुभ दिन पर कू के नए लोगो का उद्घाटन किया।

बता दें कि देसी माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कू ने हाल ही में टॉक टू टाइप फीचर को लॉन्च किया है। टॉक टू टाइप फीचर की मदद से यूजर्स अपनी भाषा में बोलकर टाइप कर सकेंगे। कू का टॉक टू टाइप फीचर काफी हद तक वॉयस टाइपिंग जैसा है लेकिन इसकी खासियत यह है कि इसमें अधिकतर भारतीय भाषाओं का सपोर्ट दिया गया है। कू टॉक टू टाइप की मदद से यूजर्स बोलकर अपनी क्षेत्रीय भाषा टाइप कर सकेंगे।

पढ़ें :- Koo app पर लोकसभा में उठ रहे सवाल, देसी एप है फिर क्यों 'चीनी कंपनी' का निवेश?

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X