1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. लखनऊ : सात लाख खर्च कर व्यापारी पुत्र ने थाइलैंड से बुलवाई कॉल गर्ल, कोरोना से मौत के बाद मचा हड़कंप

लखनऊ : सात लाख खर्च कर व्यापारी पुत्र ने थाइलैंड से बुलवाई कॉल गर्ल, कोरोना से मौत के बाद मचा हड़कंप

कोरोना महामारी के दौर में जहां दुनिया भर के लोग अपनी जान बचाने के लिए हर संभव तरकीब अपना रहे हैं, तो वहीं लखनऊ के रईसजादे अपनी अय्याशी के लिए थाईलैंड से कॉल गर्ल बुला रहे हैं। सात लाख रुपया खर्च करके व्यापारी के पुत्र ने करीब 10 दिन पहले कॉल गर्ल को थाइलैंड से लखनऊ बुलवाया था।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Lucknow Call Girl From Thailand After Spending Seven Lakhs Created Chaos After Death From Corona

लखनऊ। कोरोना महामारी के दौर में जहां दुनिया भर के लोग अपनी जान बचाने के लिए हर संभव तरकीब अपना रहे हैं, तो वहीं लखनऊ के रईसजादे अपनी अय्याशी के लिए थाईलैंड से कॉल गर्ल बुला रहे हैं। सात लाख रुपया खर्च करके व्यापारी के पुत्र ने करीब 10 दिन पहले कॉल गर्ल को थाइलैंड से लखनऊ बुलवाया था। उसके लखनऊ आने के तीन दिन बाद ही उसकी तबीयत खराब हो गई। इसके बाद उसको डॉ. राममनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान, गोमतीनगर में भर्ती करवाया गया।

पढ़ें :- COVID-19 केस : पिछले 24 घंटों में कोरोना के 62 हजार नए मामले दर्ज, 2542 लोगों की मौत

बता दें कि इलाज के दौरान जब कॉल गर्ल की तीन मई को मौत हो गई तो व्यापारी पुत्र ने खुद ही थाइलैंड एंबेसी सम्पर्क भी किया। मामला दो देशों के बीच होने के कारण खुल गया। इस प्रकरण की जब पुलिस ने जांच की तो एक के बाद एक कई खुलासे हुए हैं। पुलिास जांच में खुलासा हुआ है कि इस कॉल गर्ल को अभी 10 दिन पहले ही लखनऊ के एक प्रमुख व्यापारी के बेटे ने सात लाख रुपए खर्च करके थाईलैंड से बुलाया था। दो दिन बाद ही वह बीमार पड़ गई तो उसे लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां तीन मई को उसकी मौत हो गई। पुलिस की जांच में सामने आया है कि व्यापारी के बेटे ने कॉल गर्ल की तबियत बिगडऩे पर खुद थाईलैंड एंबेसी को फोन करके इसकी जानकारी दी थी। इसके बाद एंबेसी ने भारत के विदेश मंत्रालय की मदद से उसे अस्पताल में भर्ती कराया था।

इसके बाद कॉल गर्ल के शव को सौंपे जाने की प्रक्रिया काफी जटिल होती गई। पुलिस ने पहले थाईलैंड एंबेसी में संपर्क करके उसके परिवार के लोगों को शव हैंडओवर करने की कोशिश की, लेकिन जब नहीं हो पाया तो शनिवार को एजेंट सलमान की मौजूदगी में उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया है। इसी एजेंट के सहारे वह भारत आई थी।

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस जंग जीतने के लिए जहां लोग ऑक्सीजन के एक सिलेंडर के लिए तरस रहे हैं, वहीं लखनऊ के इस व्यापारी पुत्र ने पूरे सात लाख रुपए खर्च करके थाइलैंड से दस दिन पहले कॉल गर्ल को लखनऊ बुलवाया था। कॉल गर्ल की मौत के बाद जब मामला खुला तो जिम्मेदारों के पैरों तले जमीन खिसक गई। इस खुलासे से अब लखनऊ का नाम की इंटरनेशनल कॉल गर्ल रैकेट में आ गया है। कॉल गर्ल की मौत के बाद पुलिस अब राजधानी में पांव पसार रहे इंटरनेशनल कॉल गर्ल रैकेट के बारे में पता करने में जुट गई है। पुलिस का कहना है कि ये भी ट्रेस किया जा रहा है कि कॉल गर्ल के संपर्क में और कौन-कौन आया है? पुलिस के अनुसार यह कॉल गर्ल राजस्थान के रहने वाले एक ट्रैवेल एजेंट के संपर्क में थी। उसी ने इसे लखनऊ भेजा था। पुलिस अब इस एजेंट को भी तलाश कर रही है।

पढ़ें :- अखिलेश यादव, बोले- विलय नहीं चाचा शिवपाल से करेंगे गठबंधन, बड़े दलों के साथ नहीं

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X