1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Manohar Lal jeevan parichay : मनोहर लाल ने विपक्षियों को धूल चटाकर 15 साल बाद खिलाया कमल, योगी ने दिया राज्यमंत्री पद का इनाम

Manohar Lal jeevan parichay : मनोहर लाल ने विपक्षियों को धूल चटाकर 15 साल बाद खिलाया कमल, योगी ने दिया राज्यमंत्री पद का इनाम

Manohar Lal jeevan parichay : यूपी (UP) के ललितपुर जिले (Lalitpur District) में निर्वाचन क्षेत्र - 227, महरौनी विधानसभा सीट (Mehroni Assembly Seat) पर 2017 के चुनावों में मोदी लहर का असर साफ नजर आया। महरौनी विधानसभा सीट (Mehroni Assembly Seat) पर भाजपा उम्मीदवार मनोहर लाल पंथ (BJP candidate Manohar Lal Panth) ने बसपा उम्मीदवार फेरन लाल अहिरवार (BSP candidate Feran Lal Ahirwar) को 99564 मतों के बड़े अंतर से हराकर पहली बार विधानसभा पहुंंचे।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Manohar Lal jeevan parichay : यूपी (UP) के ललितपुर जिले (Lalitpur District) में निर्वाचन क्षेत्र – 227, महरौनी विधानसभा सीट (Mehroni Assembly Seat) पर 2017 के चुनावों में मोदी लहर का असर साफ नजर आया। महरौनी विधानसभा सीट (Mehroni Assembly Seat) पर भाजपा उम्मीदवार मनोहर लाल पंथ (BJP candidate Manohar Lal Panth) ने बसपा उम्मीदवार फेरन लाल अहिरवार (BSP candidate Feran Lal Ahirwar) को 99564 मतों के बड़े अंतर से हराकर पहली बार विधानसभा पहुंंचे।

पढ़ें :- Rama Shankar Singh Patel jeevan parichay : रमाशंकर दिग्गज कांग्रेसी को हराकर बने विधायक, योगी ने दिया मंत्री पद

पहली बार जीते मनोहर लाल पंथ उर्फ़ मन्नू कोरी को सीएम योगी ने राज्यमंत्री बनाकर अपनी टीम में शामिल किया है। मनोहर पंथ ललितपुर के महरौनी के ही रहने वाले हैं। एससी वर्ग से आने वाले मनोहर लाल पंथ का परिवार कभी बेहद गरीब हुआ करता था। बताते हैं कि मनोहर के पिता हरजू प्रसाद पंथ ललितपुर के धौर्रा गांव में परिवार पालने के लिए मूर्तियां बनाते थे। मनोहर पंथ इसमें हाथ बंटाते थे। वह जरूरत पड़ने पर मजदूरी भी किया करते थे। गरीबी के कारण वह 10वीं तक ही पढ़ सकें।

मनोहर लाल पंथ इस तरह चढ़े  राजनीति में सफलता की सीढ़ियां

मनोहर पंथ के बुंदेला परिवार के संपर्क में आने के बाद से उनका राजनैतिक उदय होना शुरू हुआ। विधायक बनने से पहले जिला पंचायत की राजनीति तक ही सीमित थे। 1995 में वह बांसी सीट से जिला पंचायत सदस्य बने। शुरू से ही बीजेपी में रहे मनोहर पंथ अनुसूचित जनजाति मोर्चा के जिलाध्यक्ष बना दिए गए। इसके बाद उनकी राजनीति जिला पंचायत के आसपास ही घूमती रही। एक और जिला पंचायत चुनाव लड़े, लेकिन हार गए। इसी चुनाव में अन्य सीट से खड़ी हुई उनकी पत्नी कस्तूरी देवी जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीत गई। इसके चुनाव के बाद पति-पत्नी दोनों जिला पंचायत चुनाव में फिर उतरे, लेकिन इस बार दोनों हार गए। 2010 में मनोहर पंथ ने अपने बेटे चंद्रशेखर पंथ को जाखलौन सीट पर जिला पंचायत सदस्य के लिए चुनाव मैदान में उतारा। इसमें चंद्रशेखर को जीत मिली। इसके बाद 2015 में चंद्रशेखर ने फिर से चुनाव लड़ा, लेकिन इस बार भी हार मिली।

2012 के विधानसभा चुनाव में मनोहर लाल बसपा के फेरनलाल अहिरवार से कुल 1700 वोट से चुनाव हार गए। मनोहर पंथ पर बीजेपी ने 2017 के चुनाव में उन्हें फिर से टिकट दिया। इस बार उन्होंने बसपा प्रत्याशी फेरन लाल अहिरवार को 99, 545 से हरा दिया।

पढ़ें :- Ratnakar Mishra jeevan parichay : मां विंध्यवासिनी मंदिर के पुरोहित रत्नाकर मिश्रा बने विधायक, 20 साल बाद खिलाया कमल

ये है पूरा सफरनामा

नाम- मनोहर लाल
निर्वाचन क्षेत्र – 227, महरौनी विधानसभा सीट (Mehroni Assembly Seat)
जिला – ललितपुर
दल – भारतीय जनता पार्टी
पिता का नाम- हरजू प्रसाद
जन्‍म तिथि- 30 सितम्बर, 1954
जन्‍म स्थान- ललितपुर
धर्म- हिन्दू
जाति- अनुसूचित जाति (कोरी)
शिक्षा- हाईस्कूल
विवाह तिथि- 1968
पत्‍नी का नाम- कस्तूरी देवी
सन्तान- तीन पुत्र, दो पुत्रियां
व्‍यवसाय- कृषि, व्यापार
मुख्यावास ग्राम- किसरदा, तहसील- महरौनी, जनपद- ललितपुर

राजनीतिक योगदान
मार्च, 2017 सत्रहवीं विधान सभा के सदस्य प्रथम बार निर्वाचित

 

पढ़ें :- Praveen Kumar Singh jeevan parichay: प्रवीण ने इस सीट पर पहली बार खिलाया कमल, बने दूसरी बार विधायक
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...