HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. सपा पर जमकर बरसीं मायावती: याद दिलाया गेस्ट हाउस कांड, सुरक्षित जगह पार्टी ऑफिस देने की उठाई मांग

सपा पर जमकर बरसीं मायावती: याद दिलाया गेस्ट हाउस कांड, सुरक्षित जगह पार्टी ऑफिस देने की उठाई मांग

बसपा सुप्रीमो मायावती ने एक्स पर लिखा कि, सपा अति-पिछड़ों के साथ-साथ जबरदस्त दलित-विरोधी पार्टी भी है, हालांकि बीएसपी ने पिछले लोकसभा आमचुनाव में सपा से गठबंधन करके इनके दलित-विरोधी चाल, चरित्र व चेहरे को थोड़ा बदलने का प्रयास किया। लेकिन चुनाव खत्म होने के बाद ही सपा पुनः अपने दलित-विरोधी जातिवादी एजेण्डे पर आ गई।

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। लोकसभा चुनाव 2024 से पहले सियासी सरगर्मी बढ़ने लगी है। उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा के बीच फिर से घमासान मच गया है। दोनों पार्टियों के शीर्ष नेताओं की तरफ से एक दूसरे पर हमले जारी हैं। बसपा सुप्रीमो मायावती ने एक बार फिर से सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि, सपा मुखिया जिससे भी गठबन्धन की बात करते हैं उनकी पहली शर्त बसपा से दूरी बनाए रखने की होती है, जिसे मीडिया भी खूब प्रचारित करता है।

पढ़ें :- भाजपा विधायक का वीडियो शेयर कर अखिलेश यादव ने साधा निशाना, कहा-2027 के चुनाव हारने की ही नहीं है, बल्कि...

बसपा सुप्रीमो मायावती ने एक्स पर लिखा कि, सपा अति-पिछड़ों के साथ-साथ जबरदस्त दलित-विरोधी पार्टी भी है, हालांकि बीएसपी ने पिछले लोकसभा आमचुनाव में सपा से गठबंधन करके इनके दलित-विरोधी चाल, चरित्र व चेहरे को थोड़ा बदलने का प्रयास किया। लेकिन चुनाव खत्म होने के बाद ही सपा पुनः अपने दलित-विरोधी जातिवादी एजेण्डे पर आ गई।

इसके साथ ही कहा, अब सपा मुखिया जिससे भी गठबन्धन की बात करते हैं उनकी पहली शर्त बसपा से दूरी बनाए रखने की होती है, जिसे मीडिया भी खूब प्रचारित करता है। वैसे भी सपा के 2 जून 1995 सहित घिनौने कृत्यों को देखते हुए व इनकी सरकार के दौरान जिस प्रकार से अनेकों दलित-विरोधी फैसले लिये गये हैं। जिनमें बीएसपी यूपी स्टेट आफिस के पास ऊंचा पुल बनाने का कृत्य भी है जहां से षड्यन्त्रकारी अराजक तत्व पार्टी दफ्तर, कर्मचारियों व राष्ट्रीय प्रमुख को भी हानि पहुंचा सकते हैं जिसकी वजह से पार्टी को महापुरुषों की प्रतिमाओं को वहां से हटाकर पार्टी प्रमुख के निवास पर शिफ्ट करना पड़ा।

उन्होंने कहा, इस असुरक्षा को देखते हुए सुरक्षा सुझाव पर पार्टी प्रमुख को अब पार्टी की अधिकतर बैठकें अपने निवास पर करने को मजबूर होना पड़ रहा है, जबकि पार्टी दफ्तर में होने वाली बड़ी बैठकों में पार्टी प्रमुख के पहुंचने पर वहां पुल पर सुरक्षाकर्मियों की अतिरिक्त तैनाती करनी पड़ती है। ऐसे हालात में बीएसपी यूपी सरकार से वर्तमान पार्टी प्रदेश कार्यालय के स्थान पर अन्यत्र सुरक्षित स्थान पर व्यवस्था करने का भी विशेष अनुरोध करती है, वरना फिर यहां कभी भी कोई अनहोनी हो सकती है। साथ ही, दलित-विरोधी तत्वों से भी सरकार सख़्ती से निपटे, पार्टी की यह भी मांग है।

 

पढ़ें :- IPS Transfer: यूपी में 10 आईपीएस अफसरों के हुए तबादले, इन जिलों में बदले एसपी, देखिए लिस्ट

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...