1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Shuchismita Maurya jeevan parichay: दिग्गज नेता को हराकर पहली बार विधानसभा पहुंची शुचिस्मिता मौर्या, ऐसा है सियासी सफर

Shuchismita Maurya jeevan parichay: दिग्गज नेता को हराकर पहली बार विधानसभा पहुंची शुचिस्मिता मौर्या, ऐसा है सियासी सफर

Shuchismita Maurya jeevan parichay: उत्तर प्रदेश की सियासत में शुचिस्मिता मौर्या एक ऐसा नाम है, जिन्होंने दिग्गज नेता को पटखानी देकर पहली बार विधानसभा पहुंची। शुचिस्मिता मिर्जापुर के मझवां विधानसभा सीट से विधायक हैं। इस सीट पर पहले इनके ससुर ने कमल खिलाया था, जिसके बाद इन्होंने 2017 में इस सीट पर कब्जा किया। कांग्रेस और बसपा का गढ़ कहे जाने वाले इस विधानसभा में 1996 के बाद 2017 में कमल खिला।

By शिव मौर्या 
Updated Date

Shuchismita Maurya jeevan parichay: उत्तर प्रदेश की सियासत में शुचिस्मिता मौर्या (Shuchismita Maurya) एक ऐसा नाम है, जिन्होंने दिग्गज नेता को पटखानी देकर पहली बार विधानसभा पहुंची। शुचिस्मिता मिर्जापुर के मझवां विधानसभा सीट (Majhwan assembly seat) से विधायक हैं। इस सीट पर पहले इनके ससुर ने कमल खिलाया था, जिसके बाद इन्होंने 2017 में इस सीट पर कब्जा जमाया। कांग्रेस और बसपा का गढ़ कहे जाने वाले इस विधानसभा में 1996 के बाद 2017 में कमल खिला।

पढ़ें :- Harsh Vardhan Bajpai jeevan parichay : हर्षवर्धन वाजयेपी के रगों में बसी है राजनीति, कांग्रेस के दिग्गज नेता को हराकर बने विधायक

जीवन शैली…
शुचिस्मिता मौर्या (Shuchismita Maurya) का जन्म 1 अक्टूबर 1974 को वाराणसी में हुआ था। इस समय ये मिर्जापुर के मझवां सीट से विधायक हैं। इन्होंने स्नातकोत्तर, पीजीडीपीएम तक की पढ़ाई की है। इनके पिता का नाम गुलाब चन्द मौर्या है। इनकी शादी 04 दिसम्बर, 1999 को संजय मौर्य के साथ हुई थी। शुचिस्मिता अपने क्षेत्र में लंबे समय से समाजसेवा भी कर रही हैं।

राजनीतिक इतिहास…
भाजपा के टिकट पर शुचिस्मिता मौर्या (Shuchismita Maurya) 2017 में दिग्गज नेता रमेश बिंद को हराकर विधानसभा पहुंची। इससे पहले ये दो बार जिला पंचायत सदस्य भी रह चुकी हैं। पहली बार ये मिर्जापुर सिटी से 2002 से 2005 तक जिला पंचायत सदस्य रहीं। वहीं, दूसरी बार राजगढ़ से 2010 से 2015 तक जिला पंचायत सदस्य रहीं। 2017 में पहली बार भाजपा के टिकट पर चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंची थीं। बता दें कि, इससे पहले इनके ससुर रामचंद्र मौर्य इस सीट पर कमल खिलाए थे। रामचंद्र मौर्य इस सीट पर 1996 से 2002 तक विधायक रहें। ससुर के बाद शुचिस्मिता मौर्या ने इस सीट पर कमल खिलाया।

ये है पूरा सफरनामा…
नाम — शुचिस्मिता मौर्या
पति — संजय मौर्या
जन्‍म तिथि — 1 अक्टूबर, 1974
जन्‍म स्थान — वाराणसी
पिता — गुलाब चन्द मौर्या
जाति — पिछड़ी जाति (कोइरी)
शिक्षा — स्नातकोत्तर, पीजीडीपीएम
विवाह तिथि — 04 दिसम्बर, 1999
सन्तान — एक पुत्र, एक पुत्री
व्‍यवसाय — कृषि

राजनीतिक योगदान
मार्च, 2017 — सत्रहवीं विधान सभा की सदस्या प्रथम बार निर्वाचित
विशेष अभिरूचि — सामाजिक कार्य, बैडमिन्टन, टेबल टेनिस, तैराकी।
विदेश यात्रा — सिंगापुर, मलेशिया, मकाउ, नेपाल, श्रीलंका।

पढ़ें :- Indra Pratap (Khabbu Tiwari) jeevan parichay : इन्द्र प्रताप उर्फ खब्बू तिवारी बाहुबली को पटखनी दे पहुंचे विधानसभा, खिलाया कमल

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...