1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP Legislative Council election : अब 9 अप्रैल को मतदान और 12 अप्रैल को आएगा परिणाम, बदला चुनाव कार्यक्रम

UP Legislative Council election : अब 9 अप्रैल को मतदान और 12 अप्रैल को आएगा परिणाम, बदला चुनाव कार्यक्रम

यूपी विधान परिषद चुनाव (UP Legislative Council Election) कार्यक्रम में रविवार को बदलाव कर दिया गया है। अब इन चुनाव के लिए मतदान 9 अप्रैल को होगा, जबकि परिणाम 12 अप्रैल को आएगा। चुनाव के लिए 15 मार्च को नामांकन किया जाएगा। बता दें कि इन चुनाव के समय को लेकर सवाल उठाए जा रहे थे।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी विधान परिषद चुनाव (UP Legislative Council Election) कार्यक्रम में रविवार को बदलाव कर दिया गया है। अब इन चुनाव के लिए मतदान 9 अप्रैल को होगा, जबकि परिणाम 12 अप्रैल को आएगा। चुनाव के लिए 15 मार्च को नामांकन किया जाएगा।

पढ़ें :- Lucknow News: पत्नी और बच्चों को कमरे में बंदकर रेलवे ठेकेदार को गोलियों से भूना, दिनदहाड़े वारदात से हड़कंप

बता दें कि इन चुनाव के समय को लेकर सवाल उठाए जा रहे थे। पहले जारी अधिसूचना के आधार पर यूपी विधान परिषद चुनाव (UP Legislative Council Election) के लिए 3 और 7 मार्च को मतदान होना था। जबकि 12 मार्च को मतगणना तय की गई थी। लेकिन अब कार्यक्रम में बदलाव किया गया है। जिसके बाद विधानसभा चुनाव के परिणाम 10 मार्च को आने के बाद विधान परिषद चुनाव होंगे।

शनिवार को यूपी विधान परिषद (UP Legislative Council ) के स्थानीय निकाय प्राधिकारी क्षेत्रों के चुनाव में प्रेक्षक नियुक्त करने के लिए राज्य सरकार की ओर से भेजी गई आईएएस अधिकारियों की सूची को केंद्रीय निर्वाचन आयोग ने नामंजूर कर दिया है। आयोग ने राज्य सरकार को 50 अफसरों की नई सूची उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। बताया जा रहा है कि राज्य सरकार ने एक फरवरी को अफसरों का पैनल आयोग को भेजा था। सूत्रों ने बताया कि आयोग ने राज्य सरकार की सूची को अस्वीकार कर दिया है। आयोग के सचिव सौम्यजीत घोष ने इस संबंध में प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखकर 50 वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों की दूसरी सूची उपलब्ध कराने को कहा है।

कहा गया है कि सूची में वे अधिकारी शामिल नहीं किए जाएं जो विधानसभा चुनाव से जुड़े हैं। यदि वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों की संख्या कम है, तो जितने अधिकारी कम हैं, उतने वरिष्ठतम पीसीएस अधिकारियों के नाम शामिल किए जा सकते हैं। बशर्ते वे विधानसभा चुनाव की जिम्मेदारी से न जुड़े हों। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने यह पत्र शासन को भेज दिया है।

पढ़ें :- यूपी: 11 लाख ग्रामीणों को मिला आवास का मालिकाना हक, सीएम बोले-संपत्ति विवादों पर लगेगा विराम
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...