1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने का कार्य किया जाये : मंडलायुक्त रंजन कुमार

बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने का कार्य किया जाये : मंडलायुक्त रंजन कुमार

लखनऊ मंडल के मंडलायुक्त रंजन कुमार ने यूट्यूब के माध्यम से स्कूल चलो अभियान का संबोधन किया। मण्डलायुक्त रंजन कुमार ने यूट्यूब के माध्यम से लगभग 54,000 लोगों को जोड़कर संवाद किया। कार्यक्रम का आरम्भ पीएन सिंह मण्डलीय सहायक शिक्षा निदेशक (बेसिक) पष्ठमण्डल लखनऊ ने किया। मण्डलायुक्त रंजन कुमार कहा कि शासनादेश के अनुसार स्कूल चलो अभियान 2022-23 को सफल बनाने हेतु गांवों का भ्रमण कर अभिभावकों व बच्चों से अनिवार्य रूप से समपर्क करें। ऐसे बच्चे जो ड्रापआउट के श्रेणी में चिन्हांकित हो, उसके लिए बाल गणना पंजिका में विवरण अंकन उपरांत विद्यालय में नामाकंन करायें। अभिभावकों बच्चों से सम्पर्क कर उनके विचार को भी लिखे।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ । लखनऊ मंडल के मंडलायुक्त रंजन कुमार ने यूट्यूब के माध्यम से स्कूल चलो अभियान का संबोधन किया। मण्डलायुक्त रंजन कुमार ने यूट्यूब के माध्यम से लगभग 54,000 लोगों को जोड़कर संवाद किया। कार्यक्रम का आरम्भ पीएन सिंह मण्डलीय सहायक शिक्षा निदेशक (बेसिक) पष्ठमण्डल लखनऊ ने किया। मण्डलायुक्त रंजन कुमार कहा कि शासनादेश के अनुसार स्कूल चलो अभियान 2022-23 को सफल बनाने हेतु गांवों का भ्रमण कर अभिभावकों व बच्चों से अनिवार्य रूप से समपर्क करें। ऐसे बच्चे जो ड्रापआउट के श्रेणी में चिन्हांकित हो, उसके लिए बाल गणना पंजिका में विवरण अंकन उपरांत विद्यालय में नामाकंन करायें। अभिभावकों बच्चों से सम्पर्क कर उनके विचार को भी लिखे।

पढ़ें :- बीजेपी सरकार से हट जाए, तीन महीने में जातीय जनगणना करके दिखाएं समाजवादी लोग : अखिलेश यादव

इसके साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि विद्यालय से ड्राप आउट बच्चे पढाई से वंचित न रह जायें। सर्वेक्षण के समय ईट भट्ठा/मालिन बस्ती झुग्गी झोपड़ी इत्यादि स्थानों पर भी सर्वेक्षण करें। विद्यालय आ रहे बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने का कार्य किया जाये। जिसके लिए टीएलएम शिक्षा विभाग द्वारा आधारशील, ध्यान आर्कषण शिक्षण संग्रह का विशेष रूप से संग्रह किया जाये। विद्यालय में पाठ्य सहभागी क्रिया कलाप खेल-कूद, निबंध, कविता, लेखन आदि का आयोजन कराया जाये।

साथ ही शिक्षा विभाग के अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि समय-समय पर विभिन्न प्रकार की अन्तर विद्यालयो में प्रतियोगिता करायी जाये। इस वर्ष आयोजित वार्षिक परीक्षा में जिन बच्चों ने विद्यालय के कक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया है उन्हें पुरस्कृत किया जाये।

उन्होंने कहा कि ऐसे ग्राम प्रधानों को सम्मानित किया जाये। जो कायाकल्प के अन्तर्गत अच्छा कार्य कराये है उन्हें भी पुस्कृत किया जाये साथ ही अभिभावकों को भी जिनके बच्चे की उपास्थिति विद्यालय में सबसे अच्छी हो उन्हें भी पुरस्कृत किया जाये, विशेष आवश्यकता (दिव्यांग बच्चे), बालिका शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया जाये । विद्यालय में पढ़ रहे बच्चों का उनके दक्षता के आधार पर एबीसी ग्रुप में बांट दिया जाये। जिन बच्चों को अतिरिक्त शिक्षण व उपचारात्मक शिक्षण की आवश्यकता हो उन बच्चों को अतिरिक्त शिक्षक व उपचारात्मक शिक्षण प्रदान किया जाये। बच्चों को विद्यालय में खेल व क्रियाकलाप आदि प्रयोग कराया जाये, जिससे बच्चे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त कर सकें। जिला बेसिक शिक्षा आधिकारी द्वारा मासिक कैलेण्डर के अनुसार क्रिया कलाप कराया जाये।

इस अवसर पर सहायक शिक्षा निदेशक पीएन सिंह और खण्ड शिक्षा अधिकारी, परिषदीय विद्यालय के प्रधानाध्यापक व सहायक अध्यापक सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।

पढ़ें :- सपा ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की संशोधित सूची जारी की,सवर्णों को भी मिली जगह

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...