1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Yuvraj Singh jeevan Parichay : युवराज सिंह बीजेपी की उम्मीदों पर उतरे खरा, बने दूसरी बार विधायक

Yuvraj Singh jeevan Parichay : युवराज सिंह बीजेपी की उम्मीदों पर उतरे खरा, बने दूसरी बार विधायक

Yuvraj Singh jeevan Parichay : उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हमीरपुर जिले में हमीरपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव (Hamirpur Assembly By-Election) में युवराज सिंह (Yuvraj Singh) पहली बार बीजेपी (BJP) का परचम लहराया है। युवराज सिंह (Yuvraj Singh) पहली बार समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के टिकट पर 1989 में विधानसभा पहुंचे थे। इसके बाद युवराज सिंह (Yuvraj Singh) 2003 से 2010 तक सपा (SP)  के एमएलसी (MLC) रहे।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Yuvraj Singh jeevan Parichay : उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हमीरपुर जिले में हमीरपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव (Hamirpur Assembly By-Election) में युवराज सिंह (Yuvraj Singh) पहली बार बीजेपी (BJP) का परचम लहराया है। युवराज सिंह (Yuvraj Singh) पहली बार समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के टिकट पर 1989 में विधानसभा पहुंचे थे। इसके बाद युवराज सिंह (Yuvraj Singh) 2003 से 2010 तक सपा (SP)  के एमएलसी (MLC) रहे।

पढ़ें :- China Spy Balloon : लैटिन अमेरिका में भी दिखा चीन का जासूसी गुब्बारा,चीन का इनकार

2019 में लोकसभा चुनाव का परिणाम आने के बाद युवराज सिंह ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर ली। हमीरपुर विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक अशोक सिंह चंदेल को 22 साल पुराने हत्याकांड में उम्रकैद की सजा हो गई और उनकी सदस्यता रद्द कर दी गई। इसके बाद हमीरपुर विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी ने युवराज​ सिंह पर विश्वास जताया। श्री सिंह पार्टी की उम्मीदों पर खरा उतरते हुए समाजवादी पार्टी के मनोज प्रजापति को 17771 वोट से शिकस्त दे दी।

बीजेपी विधायक युवराज सिंह को विरासत में मिली राजनीति

बता दें कि बीजेपी विधायक युवराज सिंह को राजनीति विरासत में मिली है। इनके बाबा और पिता से लेकर ताऊ और चाचा भी विधायक रहे। युवराज के बाबा चौधरी पहलवान सिंह 1952-1957 और 1957-1962 तक बांदा विधानसभा से विधायक रहे। तब बांदा और तिंदवारी दोनों ही एक विधानसभा होती थी। यही नहीं युवराज के पिता पिता बृजराज सिंह 1962 से 1967 और 1969 से 1974 तक मौदहा से विधयक रहे। वह चंद्रभानु गुप्त सरकार में राज्यमंत्री भी रहे। इसके अलावा युवराज के ताऊ महिरध्वज सिंह और चाचा जसवंत सिंह भी एमएलसी रहे।

युवराज सिंह का ऐसे रहा राजनीति सफर

पढ़ें :- Ramcharitmanas controversy : रामचरितमानस विवाद पर बोले CM भूपेश बघेल- वाद-विवाद करना गलत है, जो अच्छी चीजें हैं उसको ग्रहण कर लीजिए

युवराज सिंह का जन्म 18 जून 1957 को हमीरपुर के पोस्ट इचौली, नायक पुरवा गांव में हुआ था। वह पहली बार सपा के टिकट पर 1989 में मौदहा विधानसभा से विधायक बने। इसके बाद युवराज सिंह हमीरपुर निकाय क्षेत्र से 2003 से 2003 तक एमएलसी रहे। बता दें कि युवराज सिंह मौदहा में स्थापित गांधी इंटर कॉलेज के अध्यक्ष पर पर कार्यरत हैं। वे बुंदेलखंड विश्वविद्यालय से वॉलीबॉल के बेहतरीन खिलाड़ी भी रहे हैं।

ये है पूरा सफरनामा
नाम – युवराज सिंह
निर्वाचन क्षेत्र – 228, हमीरपुर विधानसभा सीट
जिला – हमीरपुर
दल – भारतीय जनता पार्टी
पिता का नाम- स्व. ब्रजराज सिंह
जन्‍म तिथि- 18 जून, 1957
जन्‍म स्थान- बांदा
धर्म- हिन्दू
जाति- क्षत्रिय
शिक्षा- स्नातक, एलएलबी
विवाह तिथि- 22 नवम्बर, 1978
पत्‍नी का नाम- किरन सिंह
सन्तान- दो पुत्र, एक पुत्री
व्‍यवसाय- कृषि
मुख्यावास: ग्राम- नायक पुरवा, पोस्ट-इचौली, जिला-हमीरपुर

राजनीतिक योगदान
अक्टूबर 2019 – सत्रहवीं विधान सभा के उपचुनाव में सदस्य दूसरी बार निर्वाचित
2004-2010 – सदस्य, विधान परिषद् समाजवादी पार्टी निकाय क्षेत्र बांदा, हमीरपुर
1989-1991 – दसवीं विधान सभा के चुनाव में सदस्य प्रथम बार निर्वाचित

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...