1. हिन्दी समाचार
  2. पर्दाफाश
  3. संसद सदस्यता रद्द होने के बाद बोलीं महुआ मोइत्रा, ‘अब मेरे घर CBI भेजी जाएगी, मुझे टॉर्चर किया जाएगा’

संसद सदस्यता रद्द होने के बाद बोलीं महुआ मोइत्रा, ‘अब मेरे घर CBI भेजी जाएगी, मुझे टॉर्चर किया जाएगा’

Cash for Query Case: 'कैश फॉर क्वेरी' मामले में शुक्रवार को टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा (TMC MP Mahua Moitra) को लोकसभा की सदस्यता से निष्कासित कर दिया गया। संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने टीएमसी सांसद के निष्कासन का प्रस्ताव पेश किया। जिसे सदन ने ध्वनिमत से पारित कर दिया। वहीं, महुआ की सदस्यता जाने के बाद पश्चिम बंगाल की सीएम और पार्टी अध्यक्ष ममता बनर्जी ने कहा कि ये गणतंत्र की हत्या है। 

By Abhimanyu 
Updated Date

Cash for Query Case: ‘कैश फॉर क्वेरी’ मामले में शुक्रवार को टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा (TMC MP Mahua Moitra) को लोकसभा की सदस्यता से निष्कासित कर दिया गया। संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने टीएमसी सांसद के निष्कासन का प्रस्ताव पेश किया। जिसे सदन ने ध्वनिमत से पारित कर दिया। वहीं, सदस्यता जाने के बाद महुआ मोइत्रा (Mahua Moitra) ने कहा कि मेरे घर सीबीआई भेजी जाएगी और 6 महीने तक मुझे टॉर्चर किया जाएगा।

पढ़ें :- TMC Manifesto Released : ममता बनर्जी की पार्टी ने पश्चिम बंगाल में NRC लागू न होने देने का किया एलान

महुआ मोइत्रा ने कहा कि लोकसभा स्पीकर (Loksabha Speaker) का फैसला सिर्फ उनके लॉग इन शेयर करने के आधार पर लिया गया। उनके घर सीबीआई भेजी जाएगी और 6 महीने तक उन्हें टॉर्चर किया जाएगा। वह अगले 30 साल संसद के अंदर औऱ बाहर लड़ती रहेंगी। महुआ ने कहा कि उन्हें उस आचार संहिता के उल्लंघन (Violation of Code of Conduct) का दोषी पाया गया है, जो अस्तित्व में ही नहीं है। आचार समिति उन्हें उस बात के लिए दंडित कर रही है, जो लोकसभा में सामान्य, स्वीकृत है तथा जिसे प्रोत्साहित किया गया है। आचार समिति के निष्कर्ष पूरी तरह से दो व्यक्तियों की लिखित गवाही पर आधारित हैं, जिनके कथन असल में एक-दूसरे के विरोधाभासी हैं।

ममता बनर्जी ने दी प्रतिक्रिया

इस मामले में प्रतिक्रिया देते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि महुआ (मोइत्रा) परिस्थितियों की शिकार हुई हैं। वह इसकी कड़ी निंदा करती हैं। उनकी पार्टी (TMC) महुआ से साथ है टीएमसी  INDIA गठबंधन के साथ मिलकर लड़ेगी। यह लोकतंत्र के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्हें भाजपा (BJP) का रवैया देखकर दुख हो रहा है। उन्होंने लोकतंत्र (Democracy) को कैसे धोखा दिया. उन्होंने महुआ को अपना रुख स्पष्ट करने की अनुमति नहीं दी। सरासर अन्याय हुआ है।

टीएमसी अध्यक्ष ममता बनर्जी ने कहा कि हर दल को समय नहीं दिया गया। 485 पन्ने के कागज को पढ़ने के लिए समय तक नहीं दिया है। महुआ इस लड़ाई को जीतेंगी और हम उसके साथ है। जनता भाजपा को करारा जवाब देगी और महुआ को जिताएगी।

पढ़ें :- चुनावी लाभ हासिल करने के उद्देश्य से बीजेपी 17 अप्रैल को राज्य में दंगे कराने की कर रही है कोशिश : ममता बनर्जी

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...