1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Rapidly Changing Security Situation in the World, राष्ट्रीय सुरक्षा की बढ़ीं चुनौतियां: Rajnath Singh

Rapidly Changing Security Situation in the World, राष्ट्रीय सुरक्षा की बढ़ीं चुनौतियां: Rajnath Singh

केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Union Defense Minister Rajnath Singh) ने देश में मजबूत, सक्षम और आत्मनिर्भर रक्षा उद्योग की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने गुरुवार को कहा कि वर्तमान समय में दुनिया में बदलते भूराजनीतिक हालात की वजह से भारत के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा की चुनौतियां (National Security Challenges)  बढ़ गई हैं और जटिल हो गई हैं। रक्षामंत्री ने यह बात ऐसे समय पर कही हैं जब अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान के कब्जे के बाद भारत सहित कई देशों में चिंताएं जाहिर की जा रही हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Union Defense Minister Rajnath Singh) ने देश में मजबूत, सक्षम और आत्मनिर्भर रक्षा उद्योग की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने गुरुवार को कहा कि वर्तमान समय में दुनिया में बदलते भूराजनीतिक हालात की वजह से भारत के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा की चुनौतियां (National Security Challenges)  बढ़ गई हैं और जटिल हो गई हैं। रक्षामंत्री ने यह बात ऐसे समय पर कही हैं जब अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान के कब्जे के बाद भारत सहित कई देशों में चिंताएं जाहिर की जा रही हैं।

पढ़ें :- Himachal Assembly Polls : राजनाथ सिंह, बोले - कांग्रेस एक ऐसा जहाज जिसका तेल हो चुका है खत्म

तालिबान (Taliban) या अफगान संकट (Afghan Crisis) का जिक्र किए बिना रक्षा मंत्री ने कहा कि आज पूरी दुनिया में सुरक्षा के हालात तेजी से बदल रहे हैं। इस वजह से वैश्विक भूराजनीतिक हालात (Global Geopolitical Situation ) में लगातार बदलाव आते रहते हैं।

राजनाथ सिंह Rajnath Singh ने ‘डिफेंस इंडिया स्टार्टअप चैलेंज 5.0’ Defense India Startup Challenge 5.0 के उद्घाटन के बाद बोल रहे थे। रक्षामंत्री ने कहा कि सुरक्षा चुनौतियों में तेजी से बदलाव को ध्यान में रखते हुए भारत को मजूबत, सक्षम और आत्मनिर्भर रक्षा उद्योग (Self-sustaining Defense Industry) पर फोकस (Focus) करना होगा। ताकि सशस्त्र बलों की आवश्यकताओं को पूरा किया जा सके। उन्होंने आगे कहा कि यह आवश्यक है कि हम न केवल मजबूत, आधुनिक और अच्छी तरह से सुसज्जित बल (Equipped Force) तैयार करें, बल्कि अपना रक्षा उद्योग भी विकसित करना होगा, जो मजबूत, सक्षम और सबसे बढ़कर पूरी तरह आत्मनिर्भर (Self Dependent) हो।

रक्षामंत्री ने इस सेक्टर में निजी क्षेत्र को भी निवेश के लिए आमंत्रित किया है। उन्होंने कहा कि जब-जब टेक्नॉलजी की बात होती है, मेरे मन में अमेरिका, जापान, दक्षिण कोरिया जैसे उन्नत देश आते हैं। मुझे बतलाया गया है कि ये उन्नत देश अपनी टेक्नोलॉजी (Technology) के दम पर आगे बढे हैं। उन्होंने कहा कि मैं सरकार की ओर से सभी संभव सहयोग का आश्वासन देते हुए, निजी क्षेत्र का आह्वान करता हूं कि आप लोग आगे आएं। एक सशक्त और आत्मनिर्भर रक्षा क्षेत्र (Self-sustaining Defense Sector) के निमार्ण में अपना योगदान दें।

पढ़ें :- दिवाली से पहले महंगाई का एक और बड़ा झटका, एक बार फिर से अमूल ने बढ़ाए 2 रूपय लीटर दूध के दाम
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...