1. हिन्दी समाचार
  2. तकनीक
  3. Telegram Users: कंगाल कर रहा डुप्लीकेट Telegram, ऐसे हैक हो रहे हैं डिवाइस

Telegram Users: कंगाल कर रहा डुप्लीकेट Telegram, ऐसे हैक हो रहे हैं डिवाइस

हैकर्स के निशाने पर इस समय टेलीग्राम यूजर हैं। बता दें कि हैकर्स आपके डिवाइस को पूरी तरह से अपने कंट्रोल में ले सकते हैं। दरअसल, हैकर्स द्वारा टेलीग्राम मैसेंजर ऐप की लोकप्रियता का दुरुपयोग किया जा रहा है। कुछ नकली ऐप हैं जो टेलीग्राम ऐप के रूप में सामने आ रहे हैं।

By प्रिन्स राज 
Updated Date

नई दिल्ली। हैकर्स के निशाने पर इस समय टेलीग्राम यूजर हैं। बता दें कि हैकर्स आपके डिवाइस को पूरी तरह से अपने कंट्रोल में ले सकते हैं। दरअसल, हैकर्स द्वारा टेलीग्राम मैसेंजर ऐप की लोकप्रियता का दुरुपयोग किया जा रहा है। कुछ नकली ऐप हैं जो टेलीग्राम ऐप के रूप में सामने आ रहे हैं। इसका उपयोग विंडोज-बेस्ड ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले पीसी जैसे डिवाइसेस को हैक करने के लिए किया जा रहा है। मैलवेयर ईमेल के माध्यम से और यहां तक ​​कि कुछ फ़िशिंग अकाउंट के जरिए इन्हें यूजर्स तक पहुंचाया जा रहा है।

पढ़ें :- व्हाट्सएप यूजर के मैसेज को कर देता है गायब: यहां बताया गया है आप इस फीचर का उपयोग कैसे कर सकते है

इस तरह डिवाइस में पहुंचाता है मालवेयर
नकली इंस्टॉलरों की मदद से हूबहू मैसेजिंग एप्लिकेशन टेलीग्राम जैसे दिखने वाले ऐप को डिस्ट्रीब्यूट किया जा रहा है। शोधकर्ताओं का दावा है कि मैलवेयर का इस्तेमाल विंडोज-बेस्ड ‘पर्पल फॉक्स’ बैकडोर द्वारा समझौता किए गए सिस्टम पर वितरित करने के लिए किया जा रहा है। शोधकर्ता नताली ज़रगारोव ने कहा, “हमने बड़ी संख्या में मैलेशियस इंस्टॉलरों को एक ही हमले की सीरीज का उपयोग करके समान ‘पर्पल फॉक्स’ रूटकिट वर्जन वितरित करते हुए पाया। ऐसा लगता है कि कुछ ईमेल के माध्यम से डिलीवर्ड किए गए थे, जबकि अन्य हम मानते हैं कि फ़िशिंग वेबसाइटों से डाउनलोड किए गए थे।”

पहली बार 2018 में देखा गया ये मालवेयर
thehackernews.com के अनुसार ‘पर्पल फॉक्स’ नाम का नया मालवेयर पहली बार साल 2018 में देखा गया था। यह रूटकिट क्षमताओं के साथ आता है। इसका मतलब यह है कि यह मैलवेयर को एंटी-वायरस रिसोर्सेस की पहुंच से परे इम्प्लांट किए जाने की अनुमति देता है। ट्रेंड माइक्रो के शोधकर्ताओं के एक अन्य समूह ने खुलासा किया था कि एक .NET इम्प्लांट जिसे फॉक्ससॉकेट कहा जाता है, को पर्पल फॉक्स के संयोजन में तैनात किया गया है।

शोधकर्ताओं ने कहा, “पर्पल फॉक्स की रूटकिट क्षमताएं इसे अपने उद्देश्यों को चुपके से पूरा करने में अधिक सक्षम बनाती हैं।” “वे पर्पल फॉक्स को प्रभावित सिस्टम पर बने रहने के साथ-साथ प्रभावित सिस्टम को और पेलोड वितरित करने की अनुमति देते हैं।” ज़रगारोव ने कहा कि उन्होंने अक्सर मैलेशियस फाइलों को छोड़ने के लिए वैध सॉफ़्टवेयर का उपयोग करने वाले धमकी देने वाले हैकर्स को देखा है।

 

पढ़ें :- Jio जल्द एक हजार शहरों में लॉन्च करने जा रहा है 5G Service

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...