1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Akhilesh Yadav jeevan parichay: विकास की नई परिभाषा गढ़कर यूथ आइकॉन बने अखिलेश यादव

Akhilesh Yadav jeevan parichay: विकास की नई परिभाषा गढ़कर यूथ आइकॉन बने अखिलेश यादव

Akhilesh Yadav jeevan parichay:  विरासत में राजनीति का ककहरा पढ़ने वाले अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने अपनी पहचान बिल्कुल अलग बनाई है। मुख्यमंत्री रहते प्रदेश में कई ऐसी योजनाएं चलाईं जो मिशाल ​बन गईं। शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार को लेकर भी बड़ा कदम उठाया। स्कूल-कॉलेज के साथ ही प्रदेश में कई बड़े अस्पतालों की नींव रखी, जहां आज आसानी से उपचार मिल रहा है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

Akhilesh Yadav jeevan parichay:  विरासत में राजनीति का ककहरा पढ़ने वाले अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने अपनी पहचान बिल्कुल अलग बनाई है। मुख्यमंत्री रहते प्रदेश में कई ऐसी योजनाएं चलाईं जो मिशाल ​बन गईं। शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार को लेकर भी बड़ा कदम उठाया। स्कूल-कॉलेज के साथ ही प्रदेश में कई बड़े अस्पतालों की नींव रखी, जहां आज आसानी से उपचार मिल रहा है। परिवार से हटकर राजनीति करने वाले अखिलेश देखते ही देखते यूथ आइकॉन बन गए। ज्यादातर युवा उन्हें आदर्श और अभिभावक के रूप में मानते हैं। आइए जानते हैं राजनीति में अन्य नेताओं से अलग अपनी पहचान स्थापित करने वाले अखिलेश यादव के बारे में…

पढ़ें :- प्रदेश में जहां-जहां पर मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाई गई, वहां फिर बनेगा मंदिर : संगीत सोम
Jai Ho India App Panchang

जीवन शैली…
अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) का जन्म एक जुलाई 1973 को इटावा जिले के सैफई गांव में हुआ था। इनकी मां का नाम मालती देवी और पिता का नाम मुलायम सिंह यादव है। अखिलेश यादव का विवाह डिंपल यादव के साथ 24 नवंबर 1999 को हुआ था। अखिलेश यादव तीन बच्चों के पिता हैं। अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की शुरूआती पढ़ाई इटावा के सेंट मैरी स्कूल में हुई। इसके बाद उन्होंने राजस्थान के धौलपुर मिलिटरी स्कूल में दाखिला लिया। अखिलेश पर्यावरण इंजीनियरिंग में स्नातकोत्तर डिग्री के लिए अध्ययन करने ऑस्ट्रेलिया गए थे।

राजनीति इतिहास…
विरासत में राजनीति मिलने के बाद अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने अपनी मेहनत से खुद को स्थापित किया। अखिलेश (Akhilesh Yadav) 2000 के 13वीं लोक सभा चुनाव में पहली बार कन्नौज से चुने गए थे, इसके बाद हुए 14वे और 15वें लोकसभा चुनाव में भी लोकसभा की सदस्यता हासिल की थी। मौजूदा समय भी अखिलेश लोकसभा के सदस्य हैं। अखिलेश आजमगढ़ से सांसद हैं। बता दें कि, अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) 2012 के यूपी विधानसभा चुनाव में बड़ी भूमिका निभाई थी। अपनी मेहनत और नई सोच के चलते उन्होंने 2012 में प्रदेश के अंदर सपा की पूर्ण बहुमत से सरकार बनाई थी। सपा को 403 में से 224 सीट मिली थी। 10 मार्च 2012 को अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) को उत्तरप्रदेश के समाजवादी पार्टी के नेता के रूप में चुना गया, और 15 मार्च को वो सबसे कम उम्र के उत्तर-प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। 2 मई 2012 को अखिलेश ने 15वीं लोकसभा से इस्तीफा दे दिया और उत्तर-प्रदेश के विधानसभा काउंसिल के सदस्य बन गये थे। हालांकि, यूपी विधानसभा चुनाव 2017 के चुनाव में अखिलेश के नेतृत्व में लड़ी सपा को हार का सामना करना पड़ा था।

ये है सफरनामा
नाम — अखिलेश यादव
पिता — मुलायम सिंह यादव
माता — मालती देवी
जन्म तिथि — एक जुलाई 1973
बच्चे — अदिति व टीना (पुत्री) और अर्जुन (पुत्र)
पत्नी — डिंपल यादव
राजनीतिक दल — समाजवादी पार्टी

गिनाते हैं ये उपलब्धियां
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहते हुए अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने प्रदेश के विकास के लिए कई बड़े काम किए। अखिलेश इन्हीं कामों को गिनाते हैं। आइए जानते हैं अखिलेश किन—किन कामों को गिनाते हैं…..
. डॉयल 100 (अब 112)
. वीमेन पावर लाइन (1090)
. आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे
. 108 एंबुलेन्स फ्री सेवा
. लखनऊ मैट्रो रेल,
. लखनऊ इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम
. जनेश्वर मिश्र पार्क
. जयप्रकाश नारायण इंटरनेशनल सेंटर
. लखनऊ- बलिया समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेसवे 2
. छात्रों को लैपटाप वितरण

पढ़ें :- Haji Ikram Qureshi jeevan Parichay : हाजी इकराम कुरैशी ने मोदी लहर को साबित किया झूठा, पहली बार बने विधायक

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...