HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. दुखद : जुड़वा भाइयों की कोविड ने ली जान, दुनिया में साथ आए और साथ ही कह गए अलविदा

दुखद : जुड़वा भाइयों की कोविड ने ली जान, दुनिया में साथ आए और साथ ही कह गए अलविदा

कोरोना महामारी ने कई घरों को उजाड़ दिया है। ऐसी ही दुखों का पहाड़ यूपी के मेरठ के निवासी राफेल परिवार पर टूटा है। दो जुड़वा भाइयों जोफ्रेड वर्गीस ग्रेगोरी और रालफ्रेड जॉर्ज ग्रेगोरी की कोविड महामारी ने जान ले ली है। पेशे से इंजीनियर 24 वर्षीय भाइयों की मौत के बीच फर्क कुछ घंटों का ही रहा है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

मेरठ। कोरोना महामारी ने कई घरों को उजाड़ दिया है। ऐसी ही दुखों का पहाड़ यूपी के मेरठ के निवासी राफेल परिवार पर टूटा है। दो जुड़वा भाइयों जोफ्रेड वर्गीस ग्रेगोरी और रालफ्रेड जॉर्ज ग्रेगोरी की कोविड महामारी ने जान ले ली है। पेशे से इंजीनियर 24 वर्षीय भाइयों की मौत के बीच फर्क कुछ घंटों का ही रहा है।

पढ़ें :- Budget 2024: बजट में राज्यों के साथ पूरी तरह से किया गया भेदभाव...जानिए इंडिया गठबंधन की बैठक में क्या बनी रणनीति?

जन्मदिन के अगले ही दिन यानी 24 अप्रैल को वे इस घातक वायरस की चपेट में आ गए

दोनों धरती पर एक साथ आए और एक साथ ही दुनिया को अलविदा कहकर चले गए। जोफ्रेड और रालफ्रेड की बीते हफ्ते कोविड-19 के चलते मौत हो गई है। दोनों का जन्म 23 अप्रैल 1997 को हुआ था। रिपोर्ट के मुताबिक, जन्मदिन के अगले ही दिन यानी 24 अप्रैल को वे इस घातक वायरस की चपेट में आ गए। बताया जा रहा है कि दोनों हैदराबाद में नौकरी करते थे।

पिता को पता था कि अगर उनके बेटे आएंगे साथ, नहीं तो कोई नहीं आएगा

इनके पिता ग्रेगोरी रेमंड राफेल बताते हैं कि उन्हें यह लगभग पता था कि अगर उनके बेटे वापस आएंगे, तो दोनों साथ आएंगे, नहीं तो कोई नहीं आएगा। वे कहते हैं कि जो भी एक को होता था, वह दूसरे को होता था। उन्होंने कहा कि उनके जन्म से ही ऐसा चल रहा था। जोफ्रेड की मौत की खबर मिलने के बाद मैंने अपनी पत्नी को बताया कि रालफ्रेड भी घर अकेला नहीं लौटेगा। वे 13 और 14 मई को कुछ घंटों के अंतराल से चले गए। राफेल के तीन बेटे हैं। सबसे छोटे बेटे का नाम नेलफ्रेड है।

पढ़ें :- BJP MLA ने काली नदी की सफाई और अवैध कब्जा मुक्त कराने के लिए सीएम से लगाई गुहार,अधिकारियों पर लगाए गंभीर आरोप

परिवार ने भाइयों का शुरुआती इलाज घर पर ही किया। उन्हें लगा कि बुखार चला जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उनके पिता ने बताया कि ऑक्सीजन स्तर 90 पर पहुंचने के बाद चिकित्सकों ने दोनों को अस्पताल ले जाने की सलाह दी थी। दोनों भाइयों की पहली रिपोर्ट में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई, लेकिन कुछ दिनों बाद दूसरी RT-PCR रिपोर्ट नेगेटिव आई।

बेबस पिता ने बेटे को बताई झूठी कहानी,तो बेटा मां से बोला पापा झूठ बोल रहे हैं

ग्रेगोरी ने बताया कि रालफ्रेड ने आखिरी बार अपनी मां को कॉल किया था। वह अस्पताल के बिस्तर से ही बात कर रहा था। उन्होंने बताया कि ‘उसने अपनी मां से कहा कि उसकी हालत सुधर रही है और जोफ्रेड की तबियत के बारे में पूछा। तब तक जोफ्रेड का निधन हो चुका था। इसलिए हमने एक कहानी बनाई। हमने उसे बताया कि हमें उसे दिल्ली के अस्पताल में शिफ्ट करना पड़ रहा है, लेकिन रालफ्रेड शायद जानता था। उसने अपनी मां से कहा कि आप झूठ बोल रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...