Navratri Special News in Hindi

नवरात्रि स्पेशल : इस नवरात्रि कोरोना रूपी असुर को भगाने के लिए ऐसे करें माता को प्रसन्न, लगाए 9 दिन ये 9 भोग

नवरात्रि स्पेशल : इस नवरात्रि कोरोना रूपी असुर को भगाने के लिए ऐसे करें माता को प्रसन्न, लगाए 9 दिन ये 9 भोग

लखनऊ: 17 अक्टूबर 2020 से मां दुर्गा का शुभ पर्व नवरात्रि आरंभ हो गया है। आपको बात दें, इस वर्ष कोरोना रूपी असुर का अंत करने के लिए भक्त मां से प्रार्थना करेंगे… इस साल नौ दिनों तक मां को लगाएं इस प्रसाद का भोग… जानिए 9 दिन के 9 प्रसाद… नौ

नवरात्रि स्पेशल पर डिजाइनर ने बना डाली गरबा PPE किट, झूम कर नाचते नजर आए लोग…

नवरात्रि स्पेशल पर डिजाइनर ने बना डाली गरबा PPE किट, झूम कर नाचते नजर आए लोग…

नई दिल्ली: आज से माता की नवरात्रि शुरू हो गई है हर हिन्दू के लिए ये के बड़ा त्योहार होता है हर कोई इन 9 दिनो मे माता का आवाहन करता है लेकिन अगर बात की जाये गुजरात की तो नवरात्रि गरबा डांस के बिना अधूरी रहती है, खासकर गुजरात में

नवरात्रि स्पेशल: ऐसे करें कलश की स्थापना, माता रानी प्रसन्न हो भरेंगी भंडार

नवरात्रि स्पेशल: ऐसे करें कलश की स्थापना, माता रानी प्रसन्न हो भरेंगी भंडार

लखनऊ: नवरात्रि के पहले शुभ दिन 17 अक्टूबर 2020 को कलश स्थापना (घटस्थापना) शुभ मुहूर्त, सही समय और सही तरीके से करनी चाहिए। आइए जानें कैसे करें कलश की स्थापना… नवरात्रि कलश स्थापना सामाग्री जौ बोने के लिए मिटटी का पात्र साफ़ मिट्टी मिटटी का एक छोटा घड़ा कलश को

नवरात्रि स्पेशल: माता के पंडाल मे होगी महिला मजदूर की प्रतिमा की पूजा, वजह उड़ा देगी होश

नवरात्रि स्पेशल: माता के पंडाल मे होगी महिला मजदूर की प्रतिमा की पूजा, वजह उड़ा देगी होश

कोलकाता: कोरोना काल इस समय सभी के लिए मुसीबत बना हुआ है। इस समय इस काल के कारण त्यौहार और कोई बड़े फंक्शन भी नहीं हो पा रहे हैं। आप जानते ही होंगे कोरोना काल में सबसे ज्यादा परेशानी अगर किसी को हुई है तो वह है प्रवासी मजदूरों को।

नवरात्रि स्पेशल: जानिए आखिर मां दुर्गा का वाहन शेर ही क्यों है?, ऐसे कहलाई शेरावाली मां

नवरात्रि स्पेशल: जानिए आखिर मां दुर्गा का वाहन शेर ही क्यों है?, ऐसे कहलाई शेरावाली मां

लखनऊ: मां दुर्गा के अनेक नाम हैं। शेर पर सवार होने के कारण मां अम्बे को शेरांवाली कहते हैं। लेकिन मां दुर्गा को शेरांवाली के नाम से पुकारने के पीछे एक कथा भी प्रचलित है। इस कथा के अनुसार भगवान शिव को अपने पति के रूप में पाने के लिए