1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. यूपी: खुद ही कार चलाते हुए वाराणसी के दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल औचक निरीक्षण करने पहुंचे डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक

यूपी: खुद ही कार चलाते हुए वाराणसी के दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल औचक निरीक्षण करने पहुंचे डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक (Brajesh Pathak) इन दिनों अस्पतालों का औचक निरीक्षण कर रहे हैं। खामियां मिलने पर​ जिम्मेदारों को फटकार भी लगा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग में व्यवस्थाओं को दुरूस्त करने के लिए डिप्टी सीएम लगातार दिशा निर्देश जारी कर रहे हैं। इसी क्रम में आज डिप्टी सीएम वाराणसी के दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल (Deen Dayal Upadhyay Hospital) की व्यवस्था को परखने के लिए औचक निरीक्षण किया।

By शिव मौर्या 
Updated Date

वाराणसी। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक (Brajesh Pathak) इन दिनों अस्पतालों का औचक निरीक्षण कर रहे हैं। खामियां मिलने पर​ जिम्मेदारों को फटकार भी लगा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग में व्यवस्थाओं को दुरूस्त करने के लिए डिप्टी सीएम लगातार दिशा निर्देश जारी कर रहे हैं। इसी क्रम में आज डिप्टी सीएम वाराणसी के दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल (Deen Dayal Upadhyay Hospital) की व्यवस्था को परखने के लिए औचक निरीक्षण किया।

पढ़ें :- जिस देश के युवा उत्साह और जोश से भरे हुए हों, उस देश की प्राथमिकता सदैव युवा ही होंगे: पीएम मोदी

इस दौरान डिप्टी सीएम खुद ही कार चलाते हुए वहां पर पहुंचे। उनको गाड़ी ड्राइव करते देख किसी को यकीन भी नहीं हुआ और चेहरे पर मास्क लगा होने के कारण कोई उनको पहचान भी नही सका। दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में पहुंचने के बाद डिप्टी सीएम लाइन में लगे और पर्चा बनवाया। इसके बाद उन्होंने अस्पताल का निरीक्षण किया और मरीजों से जानकारी करने लगे।

पढ़ें :- Nathan Anderson के पर्दाफाश से गौतम अडानी के डूबे 45 हजार करोड़ रुपये,अमीरों की लिस्ट में चौथे नंबर पर खिसके

इस दौरान अस्पताल प्रशासन को डिप्टी सीएम के औचक निरीक्षण की भनक लग गई, जिसके बाद हड़कंप मच गया। आनन—फानन में व्यवसथाओं को अस्पताल प्रशासन ने सुधारने की कोशिश की। हालांकि, इस दौरान अस्पताल में दिखी खामियों पर डिप्टी सीएम ने जिम्मेदारों को फटकार भी लगाई और व्यवस्थाओं को दुरूस्त करने का​ निर्देश दिया।

इसके साथ ही उन्होंने सीएमएस आफिस पहुंचकर उन्होंने ड्यूटी रजिस्टर चेक किया। गैर हाजिर कर्मचारियों का ब्यौरा लिया। इसके बाद डेंटल विभाग में मशीन पर धूल देख काफी नाराजगी व्यक्त की और डाक्टर को चेतावनी दी। ओपीडी का निरीक्षण करने के दौरान डाक्टर्स से वार्ता कर रहे मरीजों से बातचीत की। इसके बाद ट्रामा सेंटर में मरीजों से बात करते हुए दो वर्ष पहले से ही बंद पड़े ओपीडी के बंद होने पर नाराजगी जताई। डिजिटल एक्स-रे कक्ष में ताला बंद होने पर सीएमएस को कड़ी फटकार लगाई। जन औषधि केंद्र में दवाओं के बारे में जानकारी ली।

पढ़ें :- अमृत उद्यान का उद्घाटन देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू कल 29 जनवरी को करेंगी

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...