HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. योगी सरकार ने DIG जुगल किशोर को किया सस्पेंड, इस मामले को लेकर हुआ एक्शन

योगी सरकार ने DIG जुगल किशोर को किया सस्पेंड, इस मामले को लेकर हुआ एक्शन

यूपी में डीआईजी फायर सर्विसेज (DIG Fire Services) के पद पर तैनात IPS अधिकारी जुगल किशोर तिवारी (IPS officer Jugal Kishore Tiwari) को योगी सरकार (Yogi Government) ने सस्पेंड कर दिया है।  बता दें कि आचरण नियमावली का पालन न करने के चलते उनपर ये एक्शन लिया गया है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी में डीआईजी फायर सर्विसेज (DIG Fire Services) के पद पर तैनात IPS अधिकारी जुगल किशोर तिवारी (IPS officer Jugal Kishore Tiwari) को योगी सरकार (Yogi Government) ने सस्पेंड कर दिया है।  बता दें कि आचरण नियमावली का पालन न करने के चलते उनपर ये एक्शन लिया गया है। आरोप है कि IPS जुगल किशोर (IPS Jugal Kishore) ने अपने अधिकार क्षेत्र के बाहर जाकर दो साल से ज्यादा छुट्टी पर रहे एक सरकारी ड्राइवर की सुनवाई करते हुए नियमों के परे जाकर उसे लाभ पहुंचाया था।

पढ़ें :- लगातार हो रही रेल दुर्घटनाएं अत्यंत चिंताजनक हैं, सरकार दुर्घटनाओं की रोकथाम के लिए अपनी रणनीति देश को बताए: राहुल गांधी

बता दें कि उन्नाव में तैनात एक फायरमैन को मिली विभागीय सजा खत्म करने पर डीआईजी फायर सर्विस जुगल किशोर तिवारी (DIG Fire Service Jugal Kishore Tiwari) को सस्पेंड किया गया है। उन्नाव में तैनात फायर विभाग (Fire Department) का ड्राइवर बीमारी के चलते कई दिन ड्यूटी से गायब रहा था। बिना अनुमति के ड्यूटी से गायब रहने पर उसे एक साथ दो सजा दी गई थी। ड्राइवर को 3 साल के लिए न्यूनतम वेतन दिया गया, साथ ही छुट्टी की अवधि में लीव विदाउट पेमेंट दिया गया था। बता दें की करीब डेढ़ साल पहले के इस मामले में तत्कालीन एसपी उन्नाव ने ड्राइवर को दंड दिया था। इसके बाद विभाग के डीआईजी (DIG) से अपील की गई थी। जिस पर डीआईजी जुगल किशोर तिवारी (DIG  Jugal Kishore Tiwari)  ने एक अपराध में दो सजा नहीं देने के सिद्धांत में फायर विभाग के ड्राइवर को क्लीन चिट दे दी थी।

ड्राइवर को क्लीन चिट देने पर अब डीआईजी जुगल किशोर तिवारी (IPS  Jugal Kishore Tiwari) को सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं, जुगल किशोर का इस पूरे मामले पर कहना है कि मैंने नियमतः काम किया है. उचित फोरम में अपनी बात रखूंगा। कुल मिलकर उन्होंने अपने सस्पेंशन पर सवाल खड़े किए हैं। ऐसे में अब देखने वाली बात होगी कि सरकार आगे क्या निर्णय लेती है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...