होम एस्ट्रोलोजी

एस्ट्रोलोजी समाचार (Astro News in Hindi)

सनातन धर्म में क्यों होता है मुंडन संस्कार?

नई दिल्ली: हिन्दू धर्म भारत का सर्वप्रमुख धर्म है। हिंदू धर्म की प्राचीनता एवं विशालता के कारण ही इसे 'सनातन धर्म' भी कहा जाता...

जानिए श्राद्ध में क्यों नहीं इस्तेमाल करते हैं लोहे का बर्तन ?

 नई दिल्ली| प्रतिवर्ष आश्विन मास में प्रौष्ठपदी पूर्णिमा से ही श्राद्ध आरंभ हो जाते है। पितृपक्ष के दौरान वैदिक परंपरा के अनुसार ब्रह्म वैवर्त...

इंदिरा एकादशी: इस व्रत से पितरों को होती है स्वर्गलोक की प्राप्ति

नई दिल्ली| हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है...

जानिए अक्टूबर माह में क्या कहती हैं आपकी राशि

लखनऊ| क्‍या कहती है आपकी राशि? क्या जून का महीना आपके लिए अच्छा रहेगा या फिर सामान्य ही चलेगा? जाने इस महीने आपके रुके...

घर में करें यह उपाय, प्रसन्न होंगे पित्तर

नई दिल्ली| हिन्दू धर्म और वैदिक मान्यताओं के अनुसार अश्विन के घर में करें यह उपाय, प्रसन्न होंगे पित्तर के रूप में पुत्र...

जानिए श्राद्ध की पौराणिक कथा

नई दिल्ली| पुत्र का कर्तव्य तभी सार्थक माना जाता है, जब वह अपने जीवनकाल में माता-पिता की सेवा करे और उनके मरणोपरांत उनकी मृत्युतिथि...

यदि बार-बार आ रही है गर्भपात की समस्या तो करें यह उपाय

नई दिल्ली| हर महिला की यह इच्छा होती है कि वह माँ बने लेकिन किसी-किसी महिलाओं के साथ यह हो जाता है कि वह...

जानिए गया में ही पिंडदान करने से क्यों मिलती है मुक्ति?

नई दिल्ली| वैदिक परंपरा और हिन्दू मान्यताओं के अनुसार पितरों के लिए श्रद्धा से श्राद्ध करना एक महान और उत्कृष्ट कार्य है। मान्यता के...

पूर्वजों के प्रति श्रद्धा का महापर्व है पितृपक्ष

नई दिल्ली| प्रतिवर्ष आश्विन मास में प्रौष्ठपदी पूर्णिमा से ही श्राद्ध आरंभ हो जाते है। इन्हें सोलह श्राद्ध भी कहते हैं। श्राद्ध महापर्व इस...

पितृ पक्ष पर विशेष: पितरों की मुक्ति के लिए विधिवत करें श्राद्ध

नई दिल्ली| पुत्र का कर्तव्य तभी सार्थक माना जाता है, जब वह अपने जीवनकाल में माता-पिता की सेवा करे और उनके मरणोपरांत उनकी मृत्युतिथि...

ख़बरें जरा हटके