1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. शुक्र उपाय और मंत्र: जानिए आपके ग्रह शुक्र और उसके प्रभावों को मजबूत करने के लिए ज्योतिष युक्तियाँ

शुक्र उपाय और मंत्र: जानिए आपके ग्रह शुक्र और उसके प्रभावों को मजबूत करने के लिए ज्योतिष युक्तियाँ

ग्रह हमारे जीवन को सबसे नाटकीय तरीके से प्रभावित करते हैं। शुक्र को समृद्धि और सुख का कारक ग्रह माना जाता है। जानिए कुंडली में शुक्र के कमजोर होने के क्या संकेत हैं और ज्योतिषीय उपायों से इस ग्रह को कैसे मजबूत किया जा सकता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

ज्योतिष शास्त्र में शुक्र ग्रह को वृष और तुला राशि का स्वामी माना गया है। शुक्र को समृद्धि और सुख का कारक ग्रह माना जाता है। जिन लोगों की जन्म कुंडली में शुक्र उच्च स्थान पर होता है, उन्हें मान्यताओं के अनुसार कभी भी शारीरिक और मानसिक रूप से कष्ट नहीं होगा। साथ ही कहा जाता है कि उन्हें हर कदम पर सफलता मिलती है। वहीं दूसरी ओर जिनकी जन्म कुंडली में शुक्र कमजोर होता है उन्हें शारीरिक और आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जानिए कुंडली में शुक्र के कमजोर होने के क्या संकेत हैं और ज्योतिषीय उपायों से इस ग्रह को कैसे मजबूत किया जा सकता है।

पढ़ें :- 27 जून 2022 का पंचांग: जाने आज का पंचांग, शुभ मुहूर्त और नक्षत्र की चाल के बारे में ...

शुक्र कमजोर होने के लक्षण

चेहरे की चमक लगातार कम होती जाती है
आंखों की रोशनी दिन-ब-दिन खराब होती जाती है
आकर्षण को दूर करता है
आर्थिक स्थिति खराब
पुरुषों के विवाह में आ रही बाधाएं
कमर और पिंडलियों में अधिक दर्द।
गरीबी
रात को सोने से पहले अधिक मीठा खाने का मन करना।
दाम्पत्य सुख की हानि
शुक्र की स्थिति खराब होने पर जातक के चरित्र पर भी प्रभाव पड़ता है।

शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय

कन्या को सफेद वस्तु जैसे चंदन, चावल, वस्त्र, फूल, चांदी, घी, दही, चीनी आदि का दान करना चाहिए।
कुंडली में शुक्र को मजबूत करने के लिए रखें शुक्रवार का व्रत
शुक्र को मजबूत करने के लिए हीरा, पुखराज या जरकन रत्न धारण किए जा सकते हैं
शुक्र ग्रह को सफेद रंग बहुत प्रिय होता है। इसलिए सफेद रंग के कपड़े पहनना फायदेमंद हो सकता है।
इलायची को पानी में मिलाकर स्नान करें

पढ़ें :- Ketu Grah Shanti Upay : केतु ग्रह को विद्याओं का कारक माना गया है, इस मंत्र से करें ग्रह शांति के उपाय

शुक्र ग्रह के लिए मंत्र

आपको वीनस बीज मंत्र यानि द्राम द्रीं द्रौं सह शुक्राय नमः का पाठ करना चाहिए!

यह लेख सामान्य जानकारी पर आधारित है। इसलिए पहले किसी ज्योतिषी से सलाह लें।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...