Sun Worship News in Hindi

Makar Sankranti 2022 : मकर संक्रांति पर सूर्य की आराधना और दान करने से दूर हो जाते हैं शनि दोष

Makar Sankranti 2022 : मकर संक्रांति पर सूर्य की आराधना और दान करने से दूर हो जाते हैं शनि दोष

Makar Sankranti 2022 : मकर संक्रांति का पर्व सदियों से पूरे देश में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक जब सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते हैं, तब मकर संक्रांति मनाई जाती है।मकर संक्रांति के दिन भगवान सूर्य अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं

Chhath Puja 2021: इन नियमों का पालन करना है जरूरी,अर्घ्य से पहले भोजन ग्रहण न करें

Chhath Puja 2021: इन नियमों का पालन करना है जरूरी,अर्घ्य से पहले भोजन ग्रहण न करें

Chhath Puja Date 2021: लोक आस्था का पर्व छठ पूजा सूर्य देव की आराधना व संतान के सुखी जीवन की कामना के लिए मनाया जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास अत्यन्त पवित्र मास माना जाता है। कार्तिक मास की महिमा का वर्णन करते हुए ऋषियों ने भविष्य पुराण

Chhath puja 2021:लोक आस्था का पर्व छठ पूजा सूर्य उपासना का सटीक समय है,जानें पर्व की पूजा का सही समय

Chhath puja 2021:लोक आस्था का पर्व छठ पूजा सूर्य उपासना का सटीक समय है,जानें पर्व की पूजा का सही समय

Chhath puja 2021: लोक आस्था का पर्व छठ पूजा उत्तर भारत में निवास करने वाले निवासियों के जनजीवन का एक ऐसा अंग है जिसका स्वागत वे बांहे फैलाकर करते हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास अत्यन्त पवित्र मास माना जाता है। कार्तिक मास की महिमा का वर्णन करते हुए

Chhath Puja Special 2021:लोक आस्था का महापर्व छठ प्रकृति की सच्ची पूजा है, मिलती है सफाई की प्रेरणा

Chhath Puja Special 2021:लोक आस्था का महापर्व छठ प्रकृति की सच्ची पूजा है, मिलती है सफाई की प्रेरणा

Chhath Puja Special 2021: लोक आस्था का पर्व छठ जल,सूर्य,देवी और पर्यावरण के सामूहिक उपासना का पर्व है। वैदिक काल से ही भारत में छठ सूर्योपासना होती आयी है। मूलत: सूर्य षष्ठी व्रत होने के कारण इसे छठ कहा गया है। यह प्राकृतिक सौंदर्य और परिवार के कल्याण के लिए

राशि परिवर्तन: कर्क राशि में सूर्य देव कल करेंगे गोचर, इस विधि से करें सूर्य की पूजा

राशि परिवर्तन: कर्क राशि में सूर्य देव कल करेंगे गोचर, इस विधि से करें सूर्य की पूजा

नई दिल्ली: सूर्य देव 16 जुलाई की सायं 4 बजकर 51 मिनट पर कर्क राशि में प्रवेश कर जाएंगे। वे अब तक मिथुन राशि में यात्रा कर रहे थे। इस दिन आषाढ़ मास की शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि है। इस दिन हस्त नक्षत्र रहेगा। चंद्रमा कन्या राशि में विराजमान