1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. हनुमान जयंती पर इन चीजों से लगाएं पवनसुत को भोग, बरसेगी कृपा

हनुमान जयंती पर इन चीजों से लगाएं पवनसुत को भोग, बरसेगी कृपा

हर वर्ष चैत्र मास की शुक्ल पूर्णिमा को हनुमान जयंती मनाई जाती है। इस बार पूर्णिमा 26 अप्रैल को दोपहर 12 बजे शुरू होगी और 27 अप्रैल को 9 बजे तक रहेगी। श्रद्धालुओं द्वारा इस दिन शोभायात्रा निकाली जाती हैं, लेकिन इस बार कोरोना वायरस महामारी के कारण सभी घर में रहकर ही हनुमान जयंती का त्योहार मनाया जाएगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। हर वर्ष चैत्र मास की शुक्ल पूर्णिमा को हनुमान जयंती मनाई जाती है। इस बार पूर्णिमा 26 अप्रैल को दोपहर 12 बजे शुरू होगी और 27 अप्रैल को 9 बजे तक रहेगी। श्रद्धालुओं द्वारा इस दिन शोभायात्रा निकाली जाती हैं, लेकिन इस बार कोरोना वायरस महामारी के कारण सभी घर में रहकर ही हनुमान जयंती का त्योहार मनाया जाएगा। हनुमान जयंती पर पवनसुत को विशेष भोग लगाएं जाते हैं। इसके अलावा उन्हें चोला भी अर्पित किया जाता है।

पढ़ें :- 26 जनवरी 2022 का राशिफल: आज इन राशियों पर होगी श्रीगणेश जी की कृपा, जाने अपनी किस्मत का हाल

आप अपनी राशि के अनुसार हनुमान जयंती पर लगाएं ये भोग

मेष- बेसन के लड्डू
वृष- तुलसी के बीज
मिथुन- तुलसी दल अर्पित
कर्क- बेसन का हलवा

सिंह- जलेबी का भोग लगाएं
कन्या- चांदी का अर्क प्रतिमा पर लगाएं
तुला- मोतीचूर के लड्डू का भोग
धनु- मोतीचूर के लड्डू के साथ तुलसी दल
मकर- मोतीचूर के लड्डू का भोग
कुंभ-सिंदूर का लेप लगाएं
मीन- लौंग चढ़ाएं

हनुमान जयंती पर शुभ योग

पढ़ें :- पंचांग: बुधवार, 26 जनवरी, 2022

हिंदू पंचांग के अनुसार इस बार हनुमान जयंती के दिन शुभ योग का निर्णाण हो रहा है। 27 अप्रैल को सिद्धि और व्यतीपात योग का निर्माण हो रहा है। हनुमान जयंती पर सिद्धि योग शाम 8 बजकर 3 मिनट तक रहेगा। इस योग में हनुमानजी पूजा आराधना करना शुभ रहेगा।

पूजा मुहूर्त

पूर्णिमा तिथि का प्रारम्भ- 26 अप्रैल 2021 की दोपहर 12 बजकर 44 मिनट से
पूर्णिमा तिथि का समापन – 27 अप्रैल 2021 की रात्रि 9 बजकर 01 मिनट पर

पूजा विधि

ऊँ हनुमते नम:। या अष्टादश मंत्र ‘ॐ भगवते आन्जनेयाय महाबलाय स्वाहा। का जप करने से दैहिक, दैविक और भौतिक तापों से तो मुक्ति मिलती है।
पूजा में चोला चढ़ाना ,सुगन्धित तेल और सिंदूर चढ़ाने का भी विधान है।
रामचरित मानस का अखंड पाठ, सुंदरकाण्ड का पाठ, हनुमान चालीसा, बजरंग बाण, हनुमान बाहुक आदि का पाठ करें।

पढ़ें :- Planetary Change : मकर राशि में इस दिन तक बना रहेगा त्रिग्रही योग,शनि देव की विशेष कृपा प्राप्त होगी

पूजा-आराधना के लाभ

शास्त्रों में कहा गया है कि हनुमानजी आज भी पृथ्वी पर वास करते हैं। इन्हें चिरंजीवी का आशीर्वाद प्राप्त है। राम भक्त हनुमानजी सूर्यपुत्र और भगवान शिव के अंशावतार है। जो भी इनकी प्रतिदिन पूजा-आराधना करता है उनको जीवन में संकटों से मुक्ति और सुख शान्ति की प्राप्ति होती है। जिन लोगों की कुंडली में शनि जैसे ग्रह अशुभ प्रभाव डालते हैं, विधिपूर्वक हनुमान जी की पूजा करते हैं तो शनि देव से जुड़ी समस्याएं दूर होती हैं। इनकी आराधना करने से नकारात्मक ऊर्जा, भूत-प्रेत बाधा, मरण आदि से पूर्णतः मुक्ति मिल जाती है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...