HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. हाथरस हादसे की होगी न्‍यायिक जांच, ऐसे कार्यक्रमों के लिए बनेगी SOP…जानिए सीएम ने और क्या-क्या कहा?

हाथरस हादसे की होगी न्‍यायिक जांच, ऐसे कार्यक्रमों के लिए बनेगी SOP…जानिए सीएम ने और क्या-क्या कहा?

हाथरस में दर्दनाक हादसे में अब तक 121 लोगों की जान चली गयी है, जबकि बड़ी संख्या में लो घायल हैं। घायलों से मिलने के लिए आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हाथरस पहुंचे। घायलों से मुलाकात के बाद उन्होंने मीडिया से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि, इस पूरी घटना की तह तक जाने के लिए शासन स्तर पर हमने कल भी व्यवस्था बनाई थी लेकिन हमारी प्राथमिकता राहत-बचाव कार्य थी। इस हादसे में 121 श्रद्धालुओं की मृत्यु हुई जो उत्तर प्रदेश के साथ-साथ हरियाणा, राजस्थान और मध्य प्रदेश से जुड़े हुए थे।

By शिव मौर्या 
Updated Date

Hathras News: हाथरस में दर्दनाक हादसे में अब तक 121 लोगों की जान चली गयी है, जबकि बड़ी संख्या में लो घायल हैं। घायलों से मिलने के लिए आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हाथरस पहुंचे। घायलों से मुलाकात के बाद उन्होंने मीडिया से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि, इस पूरी घटना की तह तक जाने के लिए शासन स्तर पर हमने कल भी व्यवस्था बनाई थी लेकिन हमारी प्राथमिकता राहत-बचाव कार्य थी। इस हादसे में 121 श्रद्धालुओं की मृत्यु हुई जो उत्तर प्रदेश के साथ-साथ हरियाणा, राजस्थान और मध्य प्रदेश से जुड़े हुए थे।

पढ़ें :- हर भारतीय को सजग और सचेत रखने का प्रयास 'संविधान हत्या दिवस' भारतीय लोकतंत्र को मजबूती प्रदान करेगा: सीएम योगी

उन्होंने कहा कि, इस कार्यक्रम में जो सज्जन अपना उपदेश देने आए थे उनकी कथा संपन्न होने के बाद, उनके मंच से उतरने के पर, उन्हें छूने के लिए महिलाओं का एक दल आगे बढ़ा तभी उनके पीछे एक भीड़ गई। इसी दौरान वे एक-दूसरे के ऊपर चढ़ते गए। सेवादार भी लोगों को धक्का देते रहे जिसके कारण यह हादसा हुआ। इस पूरी घटनाक्रम के लिए ADG आगरा की अध्यक्षता में एक SIT गठित की गई है जिसने प्रारंभिक रिपोर्ट सौंपी है। कई पहलू हैं जिनपर जांच होना आवश्यक है।

कुछ लोगों की प्रवृति होती है कि इस प्रकार की दुखद घटनाओं पर वे राजनीति ढूंढते हैं। ऐसे लोगों की फितरत है, चोरी भी और सीना जोरी भी। यह हर व्यक्ति जानता है कि उन सज्जन की फोटो किसके साथ है और उनके राजनीतिक संबंध किनके साथ जुड़े हुए हैं। आपने देखा होगा कि पिछले दिनों रैलियों के दौरान इस प्रकार की भगदड़ कहां मचती थी और कौन इसके पीछे था।

इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि, इस प्रकार की घटना केवल एक हादसा नहीं है। अगर हादसा है तो इसके पीछे कौन जिम्मेदार है। अगर यह हादसा नहीं है तो साजिश किसकी है, इसकी न्यायिक जांच होगी। जांच के लिए हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में जांच कराएंगे। इसका नोटिफिकेशन आज ही जारी हो जाएगा। जांच में जो भी दोषी होगा उसे इसकी सजा देना और दोबारा ऐसी घटना न हो इसे सुनिश्चित किया जाएगा। सीएम योगी ने कहा कि जांच की प्रारंभिक रिपोर्ट मिल गई है। उनसे इस घटना के तह तक जाने के लिए कहा गया है। उनसे कहा गया है कि आयोजकों को पूछताछ के लिए बुलाया जाए और दोषी पर कार्रवाई की जाए। वहीं, आगे कहा कि, इस तरह का हादसा दोबारा न हो इसके लिए एक एसओपी बनाई जाएंगी ताकि इस तरह की घटनाओं को रोका जा सके।

सेवादार वहां से भाग निकले
सीएम योगी ने कहा कि सबसे दुखद पहलू यह है कि ऐसे आयोजनों में सेवादार प्रशासन को अंदर जाने नहीं देते। प्रारंभिक रूप से घटना को दबाने का प्रयास किया गया। प्रशासन ने जब घायलों को अस्पताल लेकर जाने की कोशिश की तो सेवादार वहां से भाग निकले। जांच की प्रारंभिक रिपोर्ट मिल गई है। उनसे इस घटना के तह तक जाने के लिए कहा गया है। उनसे कहा गया है कि आयोजकों को पूछताछ के लिए बुलाया जाए और दोषी पर कार्रवाई की जाए

पढ़ें :- बाढ़ प्रभावित पीलीभीत का दौरा करने पहुंचे सीएम योगी, पीड़ितों से मिलकर बांटी राहत सामग्री

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...